कॉर्बेट पार्क में ड्रोन उड़ाने पर आइआइटी कानपुर के प्रोफेसर व चार विद्यार्थी बुरे फंसे


उत्तराखंड राज्य के नैनीताल जिले में स्थित रामनगर के कॉर्बेट पार्क में ड्रोन कैमरा उड़ाकर आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर व उनके चार विद्यार्थी बुरे फंस गए। उनको वन कर्मचारियों ने पकड़ लिया। उनका ड्रोन कैमरा भी जंगल में गिर गया, जिसे कड़ी मशक्कत के बाद सुबह खोज लिया गया।

असल में आईआईटी कानपुर में भूगर्भ विभाग के प्रोफेसर जावेद एन मलिक शोध के लिए कॉर्बेट पार्क आए हुए थे। उनके साथ पीएचडी के चार विद्यार्थी स्नेहा, इसान, अजहर और निधि भी थे। पांचों लोग मंगलवार की शाम को बिजरानी रेंज के फुलताल ब्लॉक के कोटद्वार रोड क्षेत्र में ड्रोन कैमरे को उड़ा रहे थे। ऐसा करते वन कर्मचारियों ने उन्हें देख लिया।

कर्मियों ने उन्हें रुकने का इशारा किया। बातचीत के दौरान ड्रोन कैमरा अनियंत्रित होकर झाडिय़ों में जा गिरा। वन कर्मियों ने कैमरे को खोजने का काफी प्रयास किया लेकिन मंगलवार की शाम वह नहीं मिला। बुधवार को झाडिय़ों में ड्रोन कैमरा मिल गया। वन कर्मियों ने ड्रोन के सभी उपकरण जब्त कर लिए।

पांचों पर चालीस हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया। वन रेंजर राजकुमार के मुताबिक प्रो मलिक ने बताया कि वह हिमालयी क्षेत्रों की मैपिंग करने के लिए तस्वीरें ले रहे थे।

फिलहाल, पांचों के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम व जंगल में अनाधिकृत रूप से प्रवेश करने की धारा के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

हालांकि, बाद में प्रोफेसर ने लिखित रूप में गलती स्वीकारी। कहा कि जंगल में प्रवेश से पहले अनुमति लेनी होती है, इसकी जानकारी नहीं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.