सउदी पैसे कमाने गया था बेटा, दुर्दशा देख फूट-फूट कर रोई मां

NEWSJUNCTION24/BAREILLY

गरीबी से जूझ रहा बरेली के हाफिजगंज का युवक रोजगार की तलाश में कबूतरबाजों के चक्कर में फंस गया। एजेंटों ने उसे सुनहरे सपने दिखाकर फर्जी वीजा बनाकर सउदी अरब भेज भी दिया। अब 13 महीने बाद युवक ने अपने भाई के मोबाइल पर वीडियो भेजकर अपनी दुर्दशा बयां की है। बेटे की यह हालत देख मां भी फूट-फूट कर रोने लगी। उसने हाफिजगंज व बारादरी पुलिस से मदद की गुहार लगाई लेकिन सुनवाई न होने पर निराश मां ने अब मुख्यमंत्री के पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराकर न्याय की गुहार लगाई है।
हाफिजगंज की मुख्त्याजन पत्नी नत्थू ने बताया कि कुछ लोगों ने उनके बेटे शमसुल को 40 हजार रूपये प्रति महीने वेतन का झांसा देकर सऊदी अरब भेजा था। इसके बदले में बारादरी थानाक्षेत्र के एजाजनगर गौंटिया के एक एजेंट ने 1.80 लाख रूपये भी लिए थे। जिसके बाद शमसुल को फर्जी वीजा बनाकर सऊदी अरब भेज दिया गया। वहां पहुंचने पर शमसुल को अपने साथ किए गए धोखे की जानकारी हुई। वहां उससे मजदूरी कराकर उसके के साथ ज्यादती हो रही है। मेहनताना मांगने के नाम पर पिटाई की जाती है। उसे केवल एक टाइम ही खाना दिया जाता है। युवक की मां ने बताया कि वहां से उनके बेटे ने अपनी दुर्दशा की वीडियो बना कर भाई के मोबाइल पर भेजी है। मां ने मुख्यमंत्री के पोर्टल पर शिकायत दर्ज करके बेटे को वापस लाने की गुहार लगाई है।

ऐसे जगह रहता हूं जहां जानवर भी नहीं रह सकते

युवक ने वीडियो में बताया है कि वह एक गोदामनुमा जगह पर रहता है। जहां सोने के लिए केवल एक टूटा सोफा दिया गया है। यह जगह ऐसी है जहां जानवर भी नहीं रह सकते। आए दिन उसके साथ मारपीट की जाती है। उसने वीडियो में परिवार से अपने फंसने और वापस बुलाने की बात कही है।

पहले भी सामने आ चुके हैं ऐसे मामले

बरेली शहर व आसपास के क्षेत्रों में पहले भी ऐसे ही मामले सामने आ चुके हैं। एजेंट फर्जी वीजा बनाकर युवकों को खाड़ी देशों में भेजकर उन्हें फंसा देते हैं। उन्हें मोटे वेतन व सुनहरे जीवन की सपने दिखाए जाते हैं, लेकिन वहां उनके साथ ज्यादती की जाती है। अक्सर पुलिस प्रशासन भी ऐसे मामलों में कार्रवाई करने में ढिलाई बरतता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.