World happiness day-सबसे ज्यादा खुश रहने वाले देशों में भारत 139वें नम्बर पर, पहले नम्बर पर फिनलैंड

दुनियाभर में 20 मार्च को World Happiness Day मनाया जाता है।इसी दिन UN की वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट 2021 रिलीज हुई है जिसमें 149 देश शामिल हैं। इस लिस्ट में भारत 139वें स्थान पर है। सबसे ज्यादा खुश रहने वाले देश की लिस्ट में फिन्लैंड (Finland) प्रथम है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि हम अपनी खुशियों को कितनी अहमियत देते हैं। कई रिसर्च में यह बात साबित भी हो चुकी है कि खुश रहना आपकी सेहत के लिहाज से भी जरूरी है।

खुश रहोगे तो शरीर भी रहेगा स्वस्थ

अमेरिकी हेल्थ वेबसाइट healthline.com की मानें तो जो लोग हमेशा खुश रहते हैं वे हेल्दी डाइट (Healthy Diet) का सेवन करते हैं जिसमें फल, सब्जियां और साबुत अनाज की मात्रा अधिक होती है. 7 हजार वयस्कों पर की गई एस स्टडी में यह बात सामने आयी कि जो लोग एक पॉजिटिव सोच के साथ जी रहे थे, खुश थे उनके द्वारा ताजे फल और सब्जियों का सेवन करने की संभावना 47 प्रतिशत अधिक थी और इन लोगों के फिजिकली एक्टिव (Physically Active) रहने की संभावना भी 33 प्रतिशत अधिक थी, उन लोगों की तुलना में जो कम खुश थे. यह बात तो कई रिसर्च में साबित हो चुकी है कि फल और सब्जियों से भरपूर डाइट का सेवन करने और नियमित रूप से एक्सरसाइज करने से डायबिटीज, स्ट्रोक और हार्ट डिजीज जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा कम हो जाता है.

इम्यून सिस्टम पर भी पड़ता है असर

हेल्दी रहने के लिए इम्यून सिस्टम (Immune System) का सही तरीके से काम करना जरूरी है। इसे साबित करने के लिए 300 स्वस्थ लोगों पर एक स्टडी की गई। इस दौरान नेजल ड्रॉप के जरिए इन लोगों के शरीर में कॉमन कोल्ड का वायरस पहुंचाया गया जो लोग खुश नहीं थे उनमें कॉमन कोल्ड यानी सर्दी जुकाम होने का खतरा 3 गुना अधिक था उन लोगों की तुलना में जो अपनी लाइफ से खुश थे और पॉजिटिव ऐटिट्यूड के साथ जीवन जी रहे थे।

दिल के मरीजों को खतरा होता है कम

खुश रहने से आपका ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) भी कंट्रोल में रहता है जिससे हृदय रोग होने का खतरा काफी कम हो जाता है। 65 से अधिक उम्र के 6,500 लोगों पर हुई एक स्टडी में यह बात सामने आयी कि जो लोग सकारात्मक सोच के साथ जी रहे थे उनमें हाई ब्लड प्रेशर होने का खतरा 9 प्रतिशत कम था. 1500 वयस्कों पर हुई एक दूसरी स्टडी जो 10 सालों तक चली उसमें भी यही बात सामने आयी कि खुश रहने से हार्ट डिजीज (Heart Disease) होने का खतरा 22 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

उम्र भी बढ़ती है

लंबा जीवन जीना चाहते हैं तो तनाव (Stress) लेना बंद कर दीजिए और खुश रहें, मस्त रहें. 32 हजार लोगों पर 30 साल तक एक लॉन्ग टर्म स्टडी की गई जिसे साल 2015 में प्रकाशित किया गया. इस स्टडी में यह बात सामने आयी कि जो लोग खुश नहीं थे उनमें मौत का खतरा 14 प्रतिशत अधिक था उन लोगों की तुलना में जो पॉजिटिव और खुश रहकर अपना जीवन जी रहे थे।

 

(नोट: किसी भी उपाय को करने से पहले हमेशा किसी विशेषज्ञ या चिकित्सक से परामर्श करें। हम इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करते हैं।)

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*