उत्तराखंड को अनिल बलूनी का नववर्ष का बड़ा तोहफा, कुमाऊं-गढ़वाल दोनों को मिला यह लाभ।

 

दिल्ली। उत्तराखंड के राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने राज्य को एक और सौगात दी है। बलूनी लगातार राज्य के विकास में राज्यसभा सांसद रहते हुए अहम भूमिका निभा रहे हैं। एक के बाद एक कई सौगातें राज्य को दे चुके हैं। अब उत्तराखंड को दो जन शताब्दी ट्रेन, दिल्ली-कोटद्वार व टनकपुर-दिल्ली स्वीकृत हो गई हैं।
राज्यसभा सांसद भाजपा मीडिया प्रमुख और मुख्य प्रवक्ता अनिल बलूनी ने नई सौगातों के लिए रेल मंत्री पीयूष गोयल का धन्यवाद किया है। बलूनी रेलवे के क्षेत्र में इससे पहले भी राज्य को सौगात दे चुके हैं। इसके अलावा कई अन्य योजनाएं भी राज्य के लिए स्वीकृत कराई हैं। हाल ही में राज्य में अत्याधुनिक कैंसर संस्थान खोलने की भी टाटा संस्थान ने सहमति दी थी।
बलूनी ने कहा कि गत 17 नवंबर 2020 को उक्त आशय का अनुरोध पत्र माननीय रेल मंत्री जी को प्रस्तुत किया गया था वह केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल का त्वरित निर्णय लेने के लिए आभार प्रकट करते हैं। उन्होंने कहा कि निरंतर उत्तराखंड की रेल सेवाओं के विस्तार तथा उच्चीकरण में श्री गोयल ने उदारता का परिचय दिया है। इन दोनों ट्रेनों के संचालन से यहां के नागरिकों, विद्यार्थियों, रोगियों और नौकरी पेशा लोगों के लिए बड़ी राहत होगी।
टनकपुर- नई दिल्ली जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन से पिथौरागढ़ चंपावत और उधम सिंह नगर के नागरिकों को बड़ी सुविधा होगी। उसी तरह कोटद्वार -नई दिल्ली जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन से गढ़वाल मंडल के नागरिकों को सुगम और सुविधा युक्त रेल यात्रा की सेवा प्राप्त हो सकेगी।
सांसद बलूनी ने कहा मोदी सरकार आमजन की सेवा-सुविधा के लिए कृत संकल्प है। मोदी सरकार के कालखंड में उत्तराखंड में रेल क्षेत्र में क्रांति हुई है। ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन का कार्य युद्ध गति से चल रहा है। नैनी-दून जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन गढ़वाल-कुमाऊं को निर्बाध सेवा दे रही है। काशीपुर-धामपुर नई रेल लाइन पर गंभीरता से रेल मंत्रालय आकलन कर रहा है। उसी तरह टनकपुर बागेश्वर रेल लाइन का संकल्प भविष्य में धरातल पर उतरेगा।
सांसद बलूनी ने कहा कि उत्तराखंड में राज्य की जनता के साथ श्रद्धालुओं तथा पर्यटकों भी सुविधाजनक रेल सेवा मिलेगी, सामरिक दृष्टि से भी यह लाभकारी सिद्ध होगी।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*