BHU के डाक्टरों ने गंगा जल से बनाई वैक्सीन, क्लीनिकल ट्रायल के लिए इलाहाबाद हाई कोर्ट में जनहित याचिका

लखनऊ। कोरोना को जड़ से खत्म करने के लिए गंगा जल से टीका बनाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। इससे बनी वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल की अनुमति देने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है। कोर्ट ने याचिका पर इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर व भारत सरकार की इथिक्स कमेटी सहित अन्य सभी पक्षकारों को नोटिस जारी कर अपना पक्ष रखने का निर्देश दिया है। वरिष्ठ अधिवक्ता और गंगा मामले की जनहित याचिका में एमिकस क्यूरी अरुण गुप्ता की याचिका पर कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश एमएन भंडारी तथा न्यायमूर्ति राजेन्द्र कुमार की खंडपीठ ने सुनवाई की।

अरुण गुप्ता का कहना है कि काशी हिन्दू विश्वविद्यालय वाराणसी के न्यूरोलॉजी विभाग के प्रोफेसर डा. विजय नाथ मिश्र के नेतृत्व में डाक्टरों की टीम ने गंगा जल पर रिसर्च कर नोजल स्प्रे वैक्सीन तैयार की है, जो मात्र 30 रुपये में लोगों को कोरोना से राहत दे सकती है। इसकी रिपोर्ट तैयार कर इथिक्स कमेटी को भेजी गई है और क्लीनिकल ट्रायल की अनुमति मांगी गई है, किन्तु कोई निर्णय नहीं लिया जा सका है। बीएचयू के डाक्टर का दावा है कि वायरोफेज थेरेपी से कोरोना का खात्मा किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : Vaccine Trial : ढाई साल की बच्ची का हुआ ‘टीकाकरण’, 28 दिन बाद लगेगी दूसरी डोज

यह भी पढ़ें : Corona Vaccine : कोवाक्सिन बनाने में गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल, बहस छिड़ी तो कंपनी ने दी यह सफाई

अभी तक की वैक्सीन से वायरस नहीं होता पूरी तरह खत्म

याचिकाकर्ता का कहना है कि अभी तक जितनी भी वैक्सीन हैं वे वायरस को डी ऐक्टीवेट करती है, जबकि गंगा जल से बनी वैक्सीन कोरोना को खत्म कर देगी। इसलिए बीएचयू के डाॅक्टरों की टीम ने आईसीएमआर व आयुष मंत्रालय को क्लिनिकल ट्रायल की अनुमति के लिए शोध प्रस्ताव भेजा था, मगर उसमें कोई रुचि नहीं ली जा रही है। याचिका मे मांग की गई है कि आयुष मंत्रालय व आईसीएमआर को डॉ. वीएन मिश्र की टीम को क्लिनिकल ट्रायल की अनुमति देने का समादेश जारी किया जाए तथा पुणे के वायरोलाजी लैब में गंगा जल से तैयार वैक्सीन का टेस्ट कराया जाए। शोध प्रस्ताव राष्ट्रपति को भी भेजा गया है, जिसमें दावा किया गया है कि गंगा जल का क्लिनिकल ट्रायल कर कोरोना को जड़ से खत्म करने की वैक्सीन तैयार की जा सकती है।

यह भी पढ़ें : बच्चों का टीका : जायडस कैडिला ने मांगी आपात इस्तेमाल की मंजूरी, सरकार ने हां कहा तो इस दिन से शुरू होगा टीकाकरण

क्या कहा है याचिकाकर्ता ने

याची का कहना है कि 1896 में ब्रिटिश वैक्टीरियोलाजिस्ट अनेस्ट हाकिंस ने गंगा जल पर शोध किया था। उनकी रिपोर्ट ब्रिटिश मेडिकल जनरल मे छपी थी। गंगोत्री के जल में सेल्फ प्यूरीफाइंग क्वालिटी पाई गई थी। अन्य कई देशों की मैग्जीन मे भी शोध पत्र छपे हैं। याची अरूण कुमार गुप्ता ने 28 अप्रैल 2020 को सभी शोधपत्र नेशनल क्लीन गंगा मिशन को भेजा है और महानिदेशक आईसीएमआर को भी देकर क्लिनिकल ट्रायल की अनुमति देने की मांग की है, मगर आईसीएमआर ने सारी रिसर्च को नकार दिया है। राष्ट्रपति के सचिव ने रिपोर्ट आयुष मंत्रालय को भेजी थी, जिसने साइंटिफिक अध्ययन के अभाव के कारण इस पर विचार ही नहीं किया। साइंटिफिक अध्ययन आयुष मंत्रालय व आईसीएमआर की अनुमति बगैर संभव नहीं है। जबकि बीएचयू के डॉक्टर की टीम ने जो नोजल स्प्रे वैक्सीन तैयार की। लगभग तीन सौ लोगों पर प्रयोग के सकारात्मक परिणाम आए हैं। एक लेख हिन्दी इंटरनेशनल जर्नल आफ माइक्रोबायोलॉजी मे 19 मार्च 2020 को प्रकाशित भी हुआ है। इस पर यह याचिका दाखिल की गई है और गंगा जल पर शोध से तैयार वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल कराने की माग की गई है।

खबरों से रहें हर पल अपडेट :

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*