बिग ब्रेकिंग : नैनीताल में सामने आई फसल बीमा के क्लेम में भारी गड़बड़ी, डीसीबी के चेयरमैन ने खोला पूरा चिठ्ठा। जानिए क्या हुआ खेल

 

नैनीताल : जिले में फसल बीमा के क्लेम में भारी गड़बड़ी सामने आई है। इस मामले का चिठ्ठा भी किसी और ने नहीं बल्कि किसान हितों के लिए सदैव जूझने वाले जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन राजेन्द्र सिंह नेगी ने खोला है। डीसीवी चेयरमैन ने भीमताल विकास भवन जाकर अधिकारियों के सामने विस्तार से जब केस स्टडी रखी तो वह भी बगलें झांकने लगे। श्री नेगी ने कहा कि अगर किसानों के साथ इस तरह का खेल होगा तो वह किसी भी हद तक जाएंगे। इधर, अधिकारियों ने गड़बड़ी स्वीकार करते हुए सुधार का भरोसा दिया है।

जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन श्री नेगी किसानों के साथ भीमताल विकास भवन पहुंचे। यहां कास्तकारों की बीमा क्लेम के लिए गठित जांच कमेटी के सयुक्त निदेशक उद्यान को पत्रावली सौंपी। इस दौरान जिला उद्यान अधिकारी नैनीताल, संबंधित फसल बीमा कम्पनी एसबीआई इन्सुरेंस के क्षेत्रीय प्रमुख मौजूद थे। श्री नेगी ने बीमा कम्पनी पर डाटा में छेड़छाड़ कर गलत डाटा से काश्तकारों को बीमा क्लेम देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि लगभग 22. 00 करोड़ बीमा क्लेम जनपद में आना चाहिए वहां बीमा कम्पनी ने डाटा में छेड़छाड़ कर मात्र 11.00 करोड़ का ही क्लेम दिया। एक ही विकासखण्ड के एक ही वेदर स्टेशन से लिए गए एक गांव में ही कुछ लोगो को बीमा क्लेम दिया गया, अधिकांश लोगों को नहीं मिला। तमाम जरूरतमंद काश्तकारों में भारी आक्रोश है। श्री नेगी ने कहा उनके बैंक के माध्यम से ही 70-80 प्रतिशत काश्तकार बीमा करवाते है, इसलिए काश्तकारों की पीड़ा को वह करीब से महसूस कर सकते है। सभी विकासखंडों के किसान प्रतिदिन बीमा कंपनी की शिकायत लेकर उनके पास बीमा कम्पनी से अपने क्लेम के लिए संपर्क कर रहे है, वही उद्यान निदेशक एव जिला उद्यान अधिकारी ने भी माना प्रथम दृष्टिय उक्त डाटा को देखने से डाटा में गड़बड़ी प्रतीत होती है। बीमा कम्पनी को एक सप्ताह में जनपद के सभी वेदर स्टेशनो के डाटा की जाँच कर उचित निवारण के साथ उपस्थित होने के निर्देश दिये गए है। उन्होंने अवगत कराया मुख्य विकास अधिकारी महोदय द्वारा भी बीमा कंपनी को कड़ी चेतावनी के साथ उक्त का शीध्र निस्तारण करने के निर्देश जारी किये गए।
श्री नेगी ने उक्त बीमा कपनी की शिकायत शासन के साथ ही आईआरडीए को भी भेजी है। बीमा कम्पनी प्रतिनिधि एव उद्यान विभाग के अधिकारियों ने श्री नेगी को एक सप्ताह में उक्त गड़बड़ियों का समाधान करने का आश्वासन दिया गया।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*