Big news in uttrakhand : उत्तराखंड में 65 मरीजों की मौत का आंकड़ा छिपा गया यह अस्पताल, सामने आया मामला तो यह हो रही कार्रवाई

 

देहरादून: राज्य में इलाज देने में आनाकानी कर रहे अस्पताल यहां तक गई जाएंगे, यह सोचा भी नहीं है। अब तो अस्पताल मौत का आंकड़ा भी छिपा रहे हैं। हरिद्वार जिले में कोरोना संक्रमण के आंकड़े लंबे समय तक अप्रत्याशित रूप से कम आते रहे और इसको लेकर विश्लेषकों ने ऑडिट कराने तक की मांग कर डाली। अब हरिद्वार जिला कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत के मामले में भी कठघरे में खड़ा है। यहां कोरोना संक्रमित 65 मरीजों की मौत की जानकारी कोविड कंट्रोल रूम से छिपाई जाती रही।

कंट्रोल रूम की सख्ती के बाद 14 मई को स्पष्ट किया गया कि निजी अस्पताल बाबा बर्फानी में 25 अप्रैल से 12 मई के बीच 65 मरीजों की मौत हुई। इस मामले में हरिद्वार के मुख्य चिकित्सा अधिकारी व अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक को नोटिस जारी किया गया है। उधर, शासकीय प्रवक्ता व कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल का कहना है कि अगर इस प्रकार का मामला है तो सरकार जांच कराएगी, जांच में कोई गलती पाई गई तो नियमानुसार सख्त की जाएगी।

कोविड कंट्रोल रूम के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर डॉ. अभिषेक त्रिपाठी के मुताबिक, कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत की जानकारी 24 घंटे के भीतर कंट्रोल रूम को देना जरूरी है। इसके बाद भी बाबा बर्फानी अस्पताल में मरीजों की मौत की जानकारी दी ही नहीं गई। जिला प्रशासन व मुख्य चिकित्सा अधिकारी स्तर से भी इस विषय में कोई जानकारी नहीं मिल पाई। अस्पताल प्रबंधन की तरफ से कर्मचारियों की कमी और दूसरे बहाने बताकर जानकारियां नहीं दी जा रही थीं। जब अस्पताल को कार्रवाई की चेतावनी दी गई, तब वहां से मौत के आंकड़े अपडेट किए गए। नोटिस का जवाब यदि संतोषजनक नहीं पाया जाता है तो जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*