तिहाड़ जेल में खूनी खेल, चाकू से गोदकर कैदी की हत्या

दिल्ली। दिल्ली की तिहाड़ जेल को एशिया की सबसे सुरक्षित जेल कहा जाता है. लेकिन इसी जेल में सुरक्षा इंतजामों को धता बताकर आए दिन कैदी किसी ना किसी वारदात को अंजाम देते रहते हैं. ताजा घटनाक्रम में कुछ कैदियों ने एक युवा कैदी पर चाकू से कई वार करके उसे मौत के घाट उतार दिया. इस हत्याकांड ने एक बार फिर जेल के सुरक्षा इंतजामों पर सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं|
हत्या की इस वारदात को तिहाड़ की जेल नंबर-3 में अंजाम दिया गया. मृतक कैदी की पहचान दिलशेर नामक कैदी के रूप में हुई है. जेल के अंदर ही दिलशेर की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई. दिलशेर की उम्र महज 22 साल थी. बताया जा रहा है कि कैदी दिलशेर जब सो रहा था, उसी वक्त उसके दिल पर हमला किया गया।
जेल में हत्या की इस वारदात को क्यों और किसने अंजाम दिया, ये अपने आप में बड़ा सवाल है. सबसे सुरक्षित जेल में चाकू कहां से आए. कैसे निर्मम हत्या को अंजाम दिया गया. ऐसे में जेल के सुरक्षाकर्मी आखिर क्या कर रहे थे|
मृतक कैदी दिलशेर के परिवार का आरोप है कि जेल में वेद प्रकाश, नौशाद और फ़ैज़ आलम नामक कैदी और उनके साथियों ने इस पूरी हत्या की वारदात अंजाम दिया है। अब पुलिस और जेल प्रशासन इस मामले में जांच की बात कर रहा है। इससे पहले भी तिहाड़ इस तरह की घटनाएं हो चुकी हैं, लेकिन हमेशा मामला दबकर रह जाता है|

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*