दक्षिण में भी ढहा कांग्रेस का किला, अल्पमत में आते ही मुख्यमंत्री का इस्तीफा। जानिए सियासी गणित

 

पुडुचेरी। दक्षिण में भी कांग्रेस अपना किला नहीं बचा पाई। हमेशा से पुडुचेरी कांग्रेस का अभेद्य किला रहा है। लेकिन वहां भी कांग्रेस अपनी सरकार नहीं बचा पाई। 2 विधायकों के इस्तीफा देने के बाद अल्पमत में आई सरकार ने आज फ्लोर टेस्ट , जिसमें मुख्यमंत्री बहुमत साबित नहीं कर पाए और उन्होंने पार्टी के बागी विधायकों पर करारा प्रहार करते हुए मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।
पुडुचेरी में 33 सदस्यीय विधानसभा है। जिसमें सात सीटें खाली चल रही हैं। कांग्रेस के दो विधायकों के दो दिन पूर्व इस्तीफा देने से पार्टी को सरकार पर संकट नज़र आने लगा था। उपराज्यपाल ने मुख्यमंत्री नारायण सामी को फ्लोर टेस्ट देने के निर्देश दिए। आज टेस्ट में मुख्यमंत्री बहुमत नहीं जुटा पाए और उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने से पहले मुख्यमंत्री ने कांग्रेस के बागी विधायकों पर जमकर सियासी हमला बोला। कहा कि विधायकों को यह देखना चाहिए कि जिस दल के प्रत्याशी के रूप में जनता ने उन्हें जिताया है वह जनता के उस भरोसे को तोड़ रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि सरकार कांग्रेस की ही लौटेगी। जनता ऐसे धोखेबाज जनप्रतिनिधियों को बख्शेगी नहीं। उन्होंने केंद्र सरकार पर उपराज्यपाल की मदद से सरकार गिराने का आरोप लगाया। पुडुचेरी में सत्तापक्ष पर 12 विधायक रह गए जबकि विपक्ष पर 14 विधायक हो गए हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*