Corona Guideline : उत्तराखंड सरकार ने बदले कई नियम, 25 मई तक बढ़ाया गया कोविड कफ्र्यू

 

-विवाह समारोह में शामिल होने के लिए आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य
-राज्य में एक से दूसरे स्थान पर जाने के लिए उप्र की सीमा का प्रयोग करने वाले व्यक्तियों को कराना होगा पंजीकरण
-अंत्येष्टि में शामिल होने वाले व्यक्तियों के लिए ई-पास, अस्थि विसर्जन के लिए चार व्यक्तियों को ही अनुमति
-कोविड कफ्र्यू के दौरान प्रदेशभर में अब 21 मई को सुबह सात से 10 बजे तक खुलेंगी परचून की दुकानें
-राज्य में बैंक शाखाएं अब सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक खुलेंगे, ईएसआइ के दफ्तर खोलने को दी गई मंजूरी

देहरादून : कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की रोकथाम के लिए प्रदेश में लागू कोविड कफ्र्यू की अवधि अब 25 मई की सुबह छह बजे तक बढ़ा दी गई है। मुख्यमंत्री तीरथ ङ्क्षसह रावत की अध्यक्षता में सोमवार देर शाम हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। इस बार कफ्र्यू को कुछ और नए प्रतिबंधों के साथ लागू किया गया है। विवाह समारोह में शामिल होने वाले व्यक्तियों के लिए अब 72 घंटे पहले तक की अवधि की आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य कर दी गई है। साथ ही राज्यवासियों से कोविड कफ्र्यू के दौरान विवाह समारोह स्थगित करने की अपील भी की गई है। राज्य में एक से दूसरे स्थान पर जाने के लिए उत्तर प्रदेश की सीमा का प्रयोग करने वाले व्यक्तियों को स्मार्ट सिटी पोर्टल पर पंजीकरण कराना आवश्यक होगा। अतिआवश्यक कार्य यथा मेडिकल इमरजेंसी, परिजन की मृत्यु होने पर एक से दूसरे स्थान पर जाने को ई-पास जारी कर अनुमति दी जाएगी। अंत्येष्टि में शामिल होने वाले व्यक्तियों को स्थानीय प्रशासन से ई-पास लेना अनिवार्य किया गया है।

सरकार ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए बीती 10 मई को दोपहर एक बजे से राज्यभर में कोविड कफ्र्यू लागू किया, जिसकी अवधि मंगलवार, 18 मई की सुबह छह बजे समाप्त हो रही है। सोमवार देर शाम को मुख्यमंत्री तीरथ ङ्क्षसह रावत ने सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल, कैबिनेट मंत्री अरङ्क्षवद पांडे, राज्यमंत्री स्वामी यतीश्वरानंद समेत उच्चाधिकारियों के साथ कोविड की स्थिति की समीक्षा की। इसमें कोविड कफ्र्यू 25 मई तक आगे बढ़ाने का निर्णय लिया गया। सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने बताया कि कोविड कफ्र्यू के लिए पूर्व में लागू प्रतिबंध जारी रहेंगे। अलबत्ता, इसमें कुछ और नए प्रतिबंध लगाए गए हैं। साथ ही व्यवहारिक कठिनाइयों को भी दूर किया गया है।

सरकार के प्रवक्ता उनियाल के अनुसार कफ्र्यू के दौरान केवल 21 मई को परचून की दुकानें खुलेंगी और वह भी सुबह सात से 10 बजे तक। दूध, मांस-मछली और फल-सब्जी की दुकानें पूर्व की भांति सुबह सात से 10 बजे तक खुलेंगी। सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों के साथ ही बेकरी मैन्युफैक्चङ्क्षरग इकाइयों को भी सुबह सात से 10 बजे तक खोलने का निर्णय लिया गया है। अस्पताल, मेडिकल स्टोर व पेट्रोल पंप को कफ्र्यू से छूट दी गई है। उन्होंने बताया कि विवाह समारोह में अधिकतम 20 व्यक्तियों के शामिल होने की अनुमति होगी और उनके लिए आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य की गई है।

मरीजों के तीमारदारों को आने-जाने के लिये डाक्टर की पर्ची ही कोविड कफ्र्यू पास के रुप में मान्य होगी। सरकार के प्रवक्ता के अनुसार बैंकों के अनुरोध पर बैंकों में कामकाज की अवधि घटाकर अब सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक की गई है। राज्य कर्मचारी बीमा निगम के कार्यालय भी खुलेंगे, मगर इसकी अवधि भी सुबह 10 से दो बजे तक होगी। हरिद्वार में अस्थि विसर्जन के लिए आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट के साथ चार व्यक्तियों को अनुमित दी जाएगी और उनके लिए वाहन की 50 फीसद की क्षमता अनुमन्य होगी। उद्योगो में कार्यरत श्रमिकों की सुरक्षा व आवागमन के लिए अनिवार्यता के स्थान पर यथासंभव कदम उठाने को कहा गया है। बाहरी राज्यों से आने वालों के लिए 72 घंटे पहले की आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य की गई है।

ये रहेंगे बंद

सभी शैक्षिक, प्रशिक्षण, कोङ्क्षचग संस्थान, सिनेमा हाल, शाङ्क्षपग माल, व्यापारिक प्रतिष्ठान, बाजार, जिम, खेल संस्थान, खेल मैदान, स्वीङ्क्षमग पूल, मनोरंजन पार्क, थिएटर, आडिटोरियम, मदिरा की दुकानें व बार, सभी प्रकार की सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षिक, सांस्कृतिक गतिविधियां

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*