कोविड जांच घोटाला : मुख्यमंत्री तीरथ और पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र आए आमने-सामने, इस मामले में दोनों ने एक-दूसरे को यहां तक कह डाला

देहरादून। हरिद्वार कुंभ में कोरोना जांच को लेकर सामने आए घोटाले को लेकर अब सियासी रंग चढ़ने लगा है। मामले में अब मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत आैर पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी आमने-सामने आ गए हैं। दोनों ही अपने पाले की गेंद दूसरे के पाले में डालना चाह रहे हैं। इससे बीजेपी के अंदर भी सियासत तेज हो गई है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह का कहना है कि यह मामला उनके मुख्यमंत्री बनने से पहले का है। वहीं, उनके बयान पर पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि सीएम पूरे मामले की न्यायिक जांच कराएं। त्रिवेंद्र ने कहा कि जांच में पता चल जाएगा कि मामला किस कालखंड का है। बकौल त्रिवेंद्र, जहां तक मेरी जानकारी है, कुंभ मेले की अधिसूचना हमारे समय में हुई थी, जो पहली अप्रैल से 30 अप्रैल तक के लिए थी। बहरहाल, प्रदेश की भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री के बयानों की सियासी हलकों में खूब चर्चा है।

क्या कहा सीएम ने

कुंभ मेले में कोविड जांच के फर्जीवाड़े को लेकर बृहस्पतिवार को मीडियाकर्मियों ने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से सवाल पूछे थे। गढ़ी कैंट में कोविड केयर अस्पताल का लोकार्पण करने के बाद मुख्यमंत्री ने मीडिया कर्मियों से कहा कि ये मामला पुराना है। मैं मार्च में आया हूं। जब मैंने इसकी छानबीन की। मैं दिल्ली में था, मैंने दिल्ली से आते ही मामले की जांच बैठाई। मैं चाहता हूं कि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होगी।

पूर्व सीएम का बयान

मुख्यमंत्री के इस बयान के बाद पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि यह हत्या के प्रयास का मामला है। उन्होंने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि मामले की न्यायिक जांच कराएं। कहा कि जनता के सामने यह भी आना चाहिए कि यह किस दौरान का मामला है। आखिर कब इस तरह के लाखों टेस्ट हुए और कब उन्हें निगेटिव दिखा दिया गया। मुख्यमंत्री के बयान का स्वागत करता हूं। उस पर मैं गहरी जांच की मांग करता हूं।

उन्होंने कहा, मुझे ऐसा ध्यान है कि कोर्ट ने राज्य सरकार को निर्देश दिए थे। इसमें टेंडर हमारे समय में नहीं हुआ। यदि टेंडर हुआ होगा तो मेला प्रबंधन के द्वारा हुआ होगा। नोटिफिकेशन हमारे समय में हुआ था, जो एक अप्रैल से 30 अप्रैल तक का था। अब यह जांच का विषय है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दूध का दूध और पानी का पानी होना चाहिए।

पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि सरकार, सरकार होती है। पोजिशन व्यक्ति की बदलती रहती है। कोई भी सरकार यदि उसमें लिप्त है तो उसकी जांच का विधान है। अच्छी एजेंसी से जांच कराकर स्पष्ट हो जाना चाहिए कि कब की गड़बड़ है और किसकी गड़बड़ है। सुसंगत धाराओं में ऐसे लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए।

कांग्रेस ने साधा निशाना, आंदोलन की दी चेतावनी

कोविड जांच फर्जीवाड़े में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत और पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के बयानों पर कांग्रेस ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा। पार्टी ने कहा कि दोनों नेताओं के बयान से प्रदेश सरकार कठघरे में खड़ी हो गई है। पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने कहा कि इस पूरे प्रकरण में बड़े लोगों के लिप्त होने की पूरी आशंका है। यह मामला केवल उत्तराखंड का ही नहीं है, हो सकता है कि राष्ट्रीय स्तर पर भी इसके पांव फैले हों।

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*