spot_img

तुलसी विवाह और देवउठनी एकादशी की तिथि को लेकर न हों भ्रमित, ज्योतिषाचार्य से जानें शुभ मुहूर्त

न्यूज जंक्शन 24, हल्द्वानी। देवउठनी एकादशी (Devuthani Ekadashi) 14 नवंबर यानी रविवार को है। इसी दिन एकादशी उपवास रखा जाएगा व तुलसी विवाह 15 नवंबर सोमवार को होगा। एकादशी के उपवास को लेकर किसी तरह की का भ्रम न रखें एकादशी का उपवास 15 तारीख को केवल साधु-संतों के लिए होगा।

इस बारे में ज्योतिषाचार्य मंजू जोशी बताती हैं कि कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को देवउठनी एकादशी (Devuthani Ekadashi), ग्यारस, देवोत्थान एकादशी, के नाम से जाना जाता है। धार्मिक मान्यतानुसार श्रीहरि विष्णु चार माह के शयन के उपरांत कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि को योग निद्रा से जागृत होते हैं। देवशयनी एकादशी चातुर्मास से सभी मांगलिक कार्य वर्जित थे जो कि पुनः देवउठनी एकादशी से प्रारंभ होंगे। देवउठनी एकादशी से भगवान श्रीहरी विष्णु पुनः सृष्टि का कार्यभार संभाल लेते हैं। इस दिन से सभी तरह के मांगलिक कार्य प्रारंभ हो जाते हैं। शास्त्रों में कहा गया है-

उत्तिष्ठ गोविन्द त्यज निद्रां जगत्पतये, त्वयि सुप्ते जगन्नाथ जगत् सुप्तं भवेदिदम्॥
उत्थिते चेष्टते सर्वमुत्तिष्ठोत्तिष्ठ माधव, गतामेघा वियच्चैव निर्मलं निर्मलादिशः॥
शुभ मुहूर्त

एकादशी (Devuthani Ekadashi) तिथि 14 नवंबर प्रातः 5:48 से प्रारंभ होकर 15 नवंबर प्रातः काल 6:39 तक रहेगी।

ज्योतिषाचार्य मंजू जोशी
पूजा विधि

ज्योतिषाचार्य मंजू जोशी बताती हैं कि देवउठनी एकादशी (Devuthani Ekadashi) पर दिवाली की तरह ही स्वच्छता का विशेष ध्यान दें नित्य कर्म से निवृत्त होकर संपूर्ण घर को स्वच्छ करें। एकादशी पर्व पर नदी में स्नान का विशेष महत्व होता है अगर ऐसा संभव न हो तो घर पर ही गंगाजल से स्नान कर सकते हैं । मंजू जोशी ने बताया कि श्रीहरि विष्णु 4 माह के चयन के उपरांत देवशयनी एकादशी पर जागृत होते हैं तो उनके स्वागत हेतु विशेष नियम देवउठनी एकादशी पर किए जाते हैं। देवउठनी एकादशी पर रात्रि जागरण, पूजा अर्चना अति शुभ फल कारक मानी गई है।

  • पूरे घर को रंगोली व गैरु से ऐपण से सजाया जाता है।
  • गन्ने व आम के पत्तों से श्री हरि विष्णु के लिए मंडप बनाएं।
  • विष्णु जी को मंदिर में स्थापित करें। घी की अखंड ज्योत जलाए जो कि अगले दिन तक प्रज्वलित रहे तो अति शुभ माना जाता है।
  • श्री हरि विष्णु व देवी लक्ष्मी को स्नानादि कराने के उपरांत वस्त्र अर्पित करें
  • रोली, अक्षत, कुमकुम सफेद व पीले पुष्प अर्पित करें।
  • पंच मिठाई, पंचमेवा, तुलसी के पत्ते पंचामृत भोग लगाएं।
  • विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें। घी के दीपक से आरती करें।
  • शाम के समय 11 दीपक प्रज्वलित करें।
एकादशी का महत्व व उपाय

ज्योतिषाचार्य मंजू जोशी ने कहा कि धार्मिक मान्यता अनुसार ऐसा माना जाता है कि जो भी जातक पूर्ण श्रद्धा भाव से एकादशी का उपवास रखते हैं उन सभी को एक हजार अश्वमेघ यज्ञ और सौ राजसूय यज्ञ के बराबर फल प्राप्त होता है।जो भी जातक कुण्डली में पितृदोष से पीड़ित हों ऐसे जातक यदि एकादशी का उपवास रखें तो पितरों का विषेश आशीर्वाद प्राप्त होता है। उनके पितरों को भी लाभ मिलता है। पितरों की आत्मा को शांति व मोक्ष प्राप्त होता है।

जरूर करें ये काम
देवउठनी एकादशी (Devuthani Ekadashi) पर भगवान विष्णु के साथ देवी लक्ष्मी की आराधना करने से कर्ज से मुक्ति प्रदान होती है।
  • घर परिवार में सुख-शांति के हेतु तुलसी पर घी का दीपक जलाएं व भगवान विष्णु के मंत्र का जाप करते हुए तुलसी की 11 बार परिक्रमा करें
  • जरूरतमंदों को पीली वस्तुओं का दान करें
  • देवउठनी एकादशी पर गुरुजी को पीले वस्त्र, हल्दी, चने की दाल, पीले लड्डू का दान करना भी शुभ माना जाता है

ऐसे ही लेटेस्ट व रोचक खबरें तुरंत अपने फोन पर पाने के लिए हमसे जुड़ें

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे यूट्यब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles