नैनीताल मेें पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, नौकायन और घुड़सवारी करने को मिली छूट, ये रहेगा समय

नैनीताल। कोविड संक्रमण के चलते डेढ़ माह से अधिक समय से सरोवर नगरी में बंद पड़ा नौकायन और घुड़सवारी फिर सुचारू रूप से संचालित हो पाएगी। जिला प्रशासन ने नैनीताल तहसील क्षेत्र में नौकायन और घुड़सवारी के संचालन को लेकर दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं। संचालक कोविड नियमों का अनुपालन करते हुए सुबह आठ से शाम पांच बजे तक नाव और घोड़ो का संचालन कर सकेंगे।

कोविड संक्रमण की रोकथाम को लेकर सरकार की ओर से घोषित लाॅकडाउन के दौरान घुड़सवारी और नैनीताल व समीपवर्ती झीलों में नौकायन पूरी तरह प्रतिबंधित किया गया था। करीब डेढ़ माह बाद पालिका व प्रशासन की अनुमति के बाद सोमवार से नैनी झील में तो नौकायन शुरू कर दिया गया। मगर इसको लेकर कोई स्पष्ट आदेश जारी नहीं किया गया था। अब उत्तराखंड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण व जिलाधिकारी धीराज गर्ब्याल के निर्देशों के बाद एसओपी जारी की गई है। एसडीएम प्रतीक जैन ने बताया कि एसओपी में बताए गए निर्देश नैनीताल, भीमताल, नौकुचियाताल, सातताल सरिताताल क्षेत्र के लिए लागू रहेंगे। पुलिस क्षेत्राधिकारी, अधिशासी अधिकारी,पर्यटन अधिकारी, थानाध्यक्ष, नाव एवं घोडा संचालक समिति को निर्देश दिेये कि वे जारी निर्देशों का गम्भीरता से अनुपालन कराएंगे।उल्लंघन करने पर आपदा प्रबन्धन एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी

सुबह आठ से शाम पांच बजे तक किया जा सकेगा संचालन

एसडीएम प्रतीक जैन ने बताया कि उत्तराखंड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण व जिलाधिकारी धीराज गर्ब्याल के निर्देशों के बाद घोड़ा और नौका संचालन के लिए एसओपी जारी की गई है। नैनीताल तहसील क्षेत्र में 16 जून से नाव संचालन व घुड़सवारी का कार्य सुबह आठ से शाम पांच बजे तक किया जा सकेगा। नाव में चालक के अलावा दो व्यक्ति ही नौकायन कर सकेंगे, पेडलबोर्ड में दो लोगों को ही नौकायन करने की अनुमति होगी। नौकायन के दौरान अनिवार्य रूप से मास्क का प्रयोग वह सैनिटाइजेशन किया जाएगा। साथ ही बचाव में प्रयोग लाई जाने वाली लाइफ जैकेट को समय-समय पर सैनिटाइज करना अनिवार्य होगा।

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*