spot_img

सपा की टिक-टिक-सोशल मीडिया पर टिकट मिला, बधाई-मिठाई भी हो गई और शाम को फिर मुरझा गए चेहरे…

बरेली। समाजवादी पार्टी में टिकट की टिक-टिक प्रत्याशियों की धड़कने बढा रही है। प्रत्याशी भी टिकट पक्का होने की घोषणा करने से बचते नजर आ रहे हैं। वजह जो भी हो लेकिन यह अनिश्चितता समर्थकों में गलत धारणा पैदा कर रही है। कैंट सीट के लिए शुक्रवार सुबह से दोपहर बाद तक डा अनीस बेग का नाम प्रत्याशी चयन में चलता रहा। उनके समर्थकों में खुशी की लहर दौड़ गई। दोपहर बाद मीरगंज से सुल्तान बेग को टिकट मिलने की चर्चा भी तेजी से वायरल हुई। फेसबुक पर समर्थकों की बधाइयां शुरू हो गयीं, लेकिन शाम को पता चला कि सिंबल रोक दिये गये। शनिवार को सभी लोगों को फिर बुलाया गया है।

समाजवादी पार्टी के टिकट को लेकर जितने उत्साहित दावेदार हैं, उससे ज्यादा चिंता विपक्षियों को हो रही है। शुक्रवार को भी दोपहर बाद लगभग 3.30 बजे चर्चा हुई कि बरेली कैंट से डा. अनीस बेग को सिंबल मिल गया है। उन्हें लखनऊ में जेनेश्वर मिश्र ट्रस्ट (जेएमटी) बुला लिया है। शाम को चर्चा हुई कि मीरगंज से सुल्तान बेग का टिकट भी फाइनल कर दिया है।

बरेली के दो टिकट फाइनल होने से कैंट और मीरगंज के समर्थकों में खुशी की लहर दौड़ी। कुछ समर्थकों ने फेसबुक पर दोनों भाइयों के टिकट फाइनल होने पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को शुक्रिया करने का पोस्ट डाल दी। अनस मिर्जा ने अपनी पोस्ट पर लिखा कि दोनों शेरों का हुआ टिकट। कैंट से डा. अनीस बेग और मीरगंज से सुल्तान बेग को जीत की बधाई।

कैंट से ही दावेदार रहे और कई दिनों से लखनऊ में डटे नूतन शर्मा ने जब कैंट से डा. अनीस बेग का टिकट फाइनल हो गया तो उन्होंने अपनी पोस्ट पर लिखा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष का निर्णय मुझे स्वीकार है। पार्टी प्रत्याशी को पूर्ण समर्थन। शहर में टिकट फाइनल होने की खुशियां चल रही थीं लेकिन रात होते-होते मामला फंस गया।

आरके शर्मा का टिकट नहीं हुआ फाइनल

भाजपा से सपा में आए विधायक आरके शर्मा आंवला से टिकट के दावेदार हैं। उनके टिकट की भी अभी घोषणा नहीं हुई है। उन्हें भी सिंबल नहीं मिला है। शुक्रवार को चर्चा थी कि आंवला से टिकट के लिए जिलाध्यक्ष अगम मौर्य भी जोर लगाए हैं। इससे यहां का टिकट भी फंसता नजर आ रहा है। इसके लिए अगम पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष और फिर राज्यसभा सदस्य रामगोपाल यादव से भी मिले। शाम को उनके टिकट फाइनल होने की बात चर्चा में आई। जिले में फरीदपुर से विजय पाल सिंह और भोजीपुरा से शहजिल इस्लाम के नाम भी फाइनल होने की चर्चा हुई।

बिथरी में फंसा रहा पेच

बिथरी चैनपुर के मामले में पेच फंसा होने की बात रात तक रही। इस बारे में जिलाध्यक्ष अगम मौर्य से बात हुई तो उन्होंने बताया कि कैंट का सिंबल दे दिया गया था। शाम तक उसमें हस्ताक्षर नहीं हो पाए थे। फिर क्या हुआ मुझे नहीं पता है। सुबह कार्यालय जाने पर पता चलेगा। इधर डा. अनीस बेग ने बताया कि किसी को सिंबल नहीं मिले हैं। सभी को सुबह बुलाया गया है। वहीं डा. आरके शर्मा के पीए ने बताया कि विधायक बैठक कर रहे हैं। टिकट हुआ या नहीं पता नहीं है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !!