पकड़ा गया हल्द्वानी की महिला ज्वेलर्स से 50 लाख की रंगदारी मांगने वाला, पढ़िये कौन हैं यह

 

हल्द्वानी। शहर की महिला ज्वेलर्स से रंगदारी मांगने के मामले का खुलासा हो गया है। महिला ज्वेलर्स से सितारगंज जेल में बंद एक शातिर अपराधी ने रंगदारी मांगी थी। इसकी कहानी रुद्रपुर के दो युवक और महिलाओं ने मिल कर रची थी। पुलिस ने आरोपियों को पकड़ कर जेल भेज दिया है। रंगदारी मांगने वाला पहले से ही सितारगंज जेल में बंद है।
हल्द्वानी की महिला ज्वेलर्स रीता खंडेलवाल का जय गुरु ज्वेलर्स के नाम से शोरूम है। पिछले दिनों एक अज्ञात नंबर से फोन आया और रीता खंडेलवाल से ₹5000000 की रंगदारी मांगी गई। रकम ना देने और किसी भी प्रकार की सूचना पुलिस को देने पर उनको बच्चों सहित जान से मारने की धमकी भी दी गई थी। इससे रीता खंडेलवाल दहशत में आ गई और उन्होंने इसकी सूचना वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रीति प्रियदर्शनी को दी। एसएसपी ने पूरी गंभीरता अपनाते हुए तत्काल इसकी जांच शुरू करा दी। जांच में पूरे मामले का खुलासा हो गया। शुक्रवार को एसएसपी प्रीति प्रियदर्शनी ने आरोपियों को पकड़ने के साथ ही पत्रकार वार्ता कर पूरे प्रकरण का पर्दाफाश कर दिया। पुलिस ने बताया कि धमकी सितारगंज जेल से राहुल राठौर ने दी थी। इस नम्बर की आईडी रुद्रपुर निवासी दुर्गाप्रसाद के नाम से है, जो ठेला लगाकर सॉक्स बेचता है। जांच में पता चला कि दुर्गा प्रसाद कभी इस नंबर को यूज नहीं करता था। यह सिम बराबर में छाता लगा कर सिम बेचने का काम करने वाले महेंद्र गंगवार और नरेंद्र गंगवाल ने उसके नाम से जारी किया था।वह यूज नहीं करता था तो बराबर में काम करने वालों ने इसे अपने दोस्त दीपक राठौर को दे दिया। दीपक राठौर का भाई राहुल राठौर जो पहले से हत्या के मुकदमे में सितारगंज जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है वहां तक पहुंचा दिया। राहुल राठौर अपराध की दुनिया में शिखर पर पहुंचना चाहता था लिहाजा उसने रसूखदार लोगों से रंगदारी मांगने का प्लान बना लिया। राहुल राठौर ने इसके लिए अपनी महिला मित्र अंकिता और अंजलि जो की जेल में मिलने अक्सर आती जाती रहती थीं, उनसे इस प्लान को साझा किया। उसके बाद इस मिशन पर काम शुरू हुआ जेल से ही राहुल राठौर ने महिला मित्रों के सुझाव पर हल्द्वानी जय गुरु ज्वेलर्स की मालकिन रीता खंडेलवाल से 50 लाख की रंगदारी मांग ली। पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए बताया राहुल राठौर को जेल से रिमांड पर लेने की तैयारी चल रही है, इसके अलावा इस पूरे घटनाक्रम में शामिल दीपक राठौर, महेंद्र सिंह गंगवार, नरेंद्र सिंह गंगवार और अंजलि व अंकिता को गिरफ्तार कर लिया है।

जेल प्रशासन पर उठे सवाल
मोबाइल से धमकी जेल के अंदर से दी गई है। ऐसे में सवाल उठ गए हैं कि जेल में मोबाइल पहुंचा कैसे। इससे एक बार फिर जेल प्रशासन सुरक्षा को लेकर कठघरे में खड़ा हो गया है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*