spot_img

मुख्यमंत्री के सामने ही अपने आपदा मंत्री रावत पर जमकर बरसे भाजपा विधायक और लगा डाले यह गंभीर आरोप। डीएम को भी सुना दी खरी-खोटी…

न्यूज जंक्शन 24, चंपावत। आपदा प्रभावित इलाकों की स्थितियां और पीड़ितों का हाल जानने सीएम पुष्कर सिंह धामी और आपदा मंत्री धन सिंह रावत शनिवार को चम्पावत पहुंचे। इस दौरान लोहाघाट विधायक पूरन फर्त्याल का गुस्सा भड़क उठा और विधायक ने सीएम के सामने ही आपदा मंत्री धन सिंह रावत व जिलाधिकारी पर बरस पड़े। उन्होंने आपदा मंत्री धन सिंह रावत पर आपदा पीडि़तों की सुध नहीं लेने का आरोप लगा दिया। वहीं, जिलाधिकारी पर सरकार के पास गलत आंकड़े भेजकर गुमराह करने का आरोप लगा दिया।

सर्किट हाउस में सीएम आपदा प्रबंधन को लेकर जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक ले रहे थे। इस दौरान बैठक में शामिल लोहाघाट के विधायक पूरन सिंह फर्त्याल ने अपना गुस्सा आपदा मंत्री धन सिंह रावत पर उतार दिया। उन्होंने आपदा राहत कार्यों में देरी होने का आरोप लगाया। कहा कि मंत्री उन्ही स्थानों पर आपदा का दौरा कर रहे हैं, जहां उनका हेलीकॉप्टर उतर सके। कहा कि उनकी विधानसभा में इस आपदा से सात लोगों की जान गई है, लेकिन उस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

विधायक यहीं नहीं रुके उन्होंने जिलाधिकारी को भी आड़े हाथ लिया। उन्होंने सीएम के सामने ही डीएम पर फर्जी आंकडे पेश करने का आरोप लगा डाला। कहा कि वह दैवीय आपदा के चलते हुए नुकसान का जायजा लेने और पीडि़तों को ढाढ़स बंधाने हर क्षेत्र में गए और लोगों को हर संभव सहायता व्यक्तिगत रुप से देने का प्रयास कर रहे है। लेकिन डीएम और प्रशासनिक अमला बिना उन क्षेत्रों में जाए सीएम के सामने फर्जी आंकड़े पेश कर रहा है। सुल्ला क्षेत्र में चार लोग आपदा में हताहत हुए लेकिन प्रशासन का एक भी बड़ा अधिकारी वहां नहीं पहुचा। केवल सड़क के किनारे पहुच कर सेल्फी ले रहे हैं।

विधायक ने कहा कि अधिकारी संवेदनशील रवैय्या अपनाए, जिससे मुख्यमंत्री के प्रयासों का लाभ आपदा पीडि़तों तक जल्द पहुंचे। उन्होंने सीएम से कहा कि ऐसे अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई करें जो आपदा पीडि़तों की उपेक्षा कर सरकार को झूठे और फर्जी आंकडे देकर गुमराह करने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र में भी आपदा से व्यापक नुकसान हुआ है लेकिन मंत्री तो छोडि़ए जिले के आला अधिकारियों ने भी आना उचित नहीं समझा। विधायक ने दिल्ली जाकर शिकायत करने और राजनीति छोडऩे तक की चेतावनी दे डाली। इस दौरान मंत्री चुपचाप विधायक की बातें सुनते रहे। खरी खोटी सुनाने के बाद विधायक बैठक छोड़कर बाहर निकल आए।

ऐसे ही लेटेस्ट और रोचक खबरें तुरंत अपने फोन पर पाने के लिए हमसे जुड़ें

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे यूट्यब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

 

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles