जिला पंचायत की तरह ब्लॉक प्रमुख चुनाव में न हो दल-बदल, इसलिए रामपुर के 47 बीडीसी मेंबर रामनगर में बनाए गए ‘बंधक’

रामनगर। पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में चल रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का केंद्र अब उत्तराखंड भी बनता जा रहा है। इस चुनाव के दो चरण पूरे हो चुके हैं, जिसमें गांवों को उनका प्रधान और जिले को उनका पंचायत अध्यक्ष मिल चुका है। अब तीसरा और अंतिम चरण ब्लॉक प्रमुख के लिए जनप्रतिनिधियों ने जोड़-तोड़ शुरू कर दी है। इसी के तहत रामपुर जिले के 47 बीडीसी मेंबरों को रामनगर के ढिकुली के अलग-अलग रिसॉर्ट में ठहराया गया है।

यह भी पढ़ें : उत्तर प्रदेश जिला पंचायत चुनाव में ढहे मुलायम और सोनिया गांधी के सियासी किले। पढ़िये भाजपा ने यह लिख दिया इतिहास

यह भी पढ़ें : Jila panchayat election : समाजवादी पार्टी का प्रत्याशी जब एन मौके पर बन गया भाजपा का ‘स्वामी’, फिर ऐसे लड़खड़ा गई साइकिल। पढ़िये राजनीति का गजब खेल

दरअसल, जिला पंचायत चुनाव में सियासी दलों में काफी बगावत देखने को मिली। अंत समय तक दल-बदल होता रहा है। इस कारण प्रदेश के प्रमुख विपक्षी दल सपा को बड़ी मुंह की खानी पड़ी। ऐसा ब्लॉक प्रमुख चुनाव में न हो इसलिए सियासी दल अपने बीडीसी मेंबर को सहेजने में लग गए हैं। चुनाव शनिवार को होना है, जिसमें अब महज एक दिन बचा है, इसलिए बीडीसी सदस्यों को दल-बदल से रोकने के लिए रामपुर जिले के टांडा से 47 बीडीसी मेंबरों को रामनगर के ढिकुली के रिसॉर्ट में ठहराया गया है। यही नहीं, बताया जा रहा है कि बीडीसी मेंबरों को किसी से संपर्क न करने की भी सख्त हिदायत दी गई है।

यह भी पढ़ें : UP Panchayat Election : मतदाता की अजीब शर्त, जो रूठी हुई पत्नी को मायके से वापस लाएगा, उसी को दूंगा वोट

वहीं, इन बीडीसी मेंबरों का कहना है कि वह अपनी मर्जी से रामनगर आए हैं। उन्हें किसी ने जबरन यहां लाकर नहीं रखा है। उनका कहना है कि चुनाव में व्यस्तता व जीत की खुशी मनाने के लिए वह यहां आए हुए हैं, मगर इतनी संख्या में एक साथ एक ही जगह पर सभी छुट्टी मनाने पहुंच गए, यह बात गले से नीचे नहीं उतर रही है। इस मामले में पुलिस प्रशासन के अधिकारी भी कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। कोतवाल अबुल कलाम ने बताया कि किसी तरह की बंधक की कोई सूचना नहीं है। यदि ऐसी कोई शिकायत आएगी तो आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। हालांकि एक पुलिस कर्मी ने बीडीसी मेंबरों के ढिकुली में रुकने की बात की पुष्टि की है। उधर होटल एंड रिसॉर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष हरी सिंह मान ने बताया कि रिसॉर्ट में सभी लोग पर्यटक के रूप में आते हैं। ऐसे जबरन किसी को रिसॉर्ट में रखने की बात भ्रामक है।

खबरों से रहें हर पल अपडेट :

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*