एक्शन मोड में उत्तराखंड के नए CM पुष्कर सिंह धामी : पहली कैबिनेट में ही सभी को दिलाया यह संकल्प फिर कर डाले यह फैसले

देहरादून। उत्तराखंड के 11वें सीएम के रूप में शपथ लेते ही पुष्कर सिंह धामी एक्शन मोड में नजर में आए हैं। शपथ ग्रहण खत्म होते ही धामी सरकार की रविवार शाम पहली कैबिनेट बैठक हुई, जिसमें कई महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर मुहर लगी। इस कैबिनेट बैठक के जरिए कई महत्वपूर्ण फैसलों पर निर्णय लेकर सीएम धामी ने बेरोजगारों व प्रदेश के विकास को लेकर अपनी मंशा साफ कर दी है। शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने बताया कि कैबिनेट बैठक में बेरोजगार नौजवानों को रोजगार देने और राज्य के विकास संबंधी कई अहम फैसलों पर मुहर लगाई गई।

यह भी पढ़ें : धामी का हुआ राजतिलक, मंत्रियों ने भी ली शपथ, मंत्रिमंडल में सभी चेहरे पुराने

यह भी पढ़ें : शपथ ग्रहण से पहले CM धामी खुद पहुंचे ‘महाराज’ के ‘धाम’, कुछ इस तरह चल रहा नाराज विधायकों को मनाने का काम

फिलहार पत्रकारों से औपचारिक बातचीत में सुबोध उनियाल ने बताया कि सोमवार को इन फैसलों को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे और नई कैबिनेट के फैसलों के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। वहीं, तकरीबन 2 घंटे तक चली कैबिनेट बैठक में 22 हजार पदों पर सरकारी नौकरी देने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। इसके साथ ही लगभग 20 हजार उपनल कर्मचारियों को समान काम के बदले समान वेतन देने के लिए मंत्री मंडलीय उप समिति गठित करने का निर्णय लिया गया।

युवाओं और पार्टी उम्मीदों पर उतरूंगा खरा

इधर, शपथ लेने के बाद सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि युवाओं और पार्टी की उनसे जो उम्मीदें हैं, उन पर वह खरा उतरेंगे। सरकार विभागों में खाली पदों को भरेगी और युवाओं को रोजगार से जोड़ने का काम करेगी। पांच साल में तीन मुख्यमंत्री बनाए जाने का आगामी विधानसभा चुनाव पर असर के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसका कोई असर नहीं होगा। उत्तराखंड में केंद्र औरराज्य सरकार ने बहुत काम किए हैं। उन्होंने कहा कि हम उन कामों को जनता के बीच लेकर जाएंगे। प्रदेश में कोविड की वजह से लोगों की आजीविका बुरी तरह से प्रभावित हुई है। सरकार का प्रयास होगा कि इसे रास्ते पर लाया जाए। लोगों को राहत दी जाएगी।

यह भी पढ़ें : युवा हाथों में प्रदेश का राज, जानिए उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के बारे में सबकुछ

प्रदेश की समस्याओं से वाकिफ हूं

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद पहली बार मीडिया से वार्ता में उन्होंने कहा कि वह सैनिक परिवार में पैदा हुए हैं। सीमांत पिथौरागढ़ जिले में उनकी पांचवीं तक की पढ़ाई हुई। जबकि भारत-नेपाल सीमा क्षेत्र से लगा खटीमा उनकी कर्मस्थली है। वह प्रदेश की समस्याओं से भली भांति वाकिफ हैं। सरकार, सरकार के रूप में नहीं बल्कि जनता की साझेदार के रूप में काम करेगी। उन्होंने कहा कि विभागों में खाली एवं बैकलॉग के पदों को भरा जाएगा।

खबरों से रहें हर पल अपडेट :

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*