News in kashipur : काशीपुर में निजी अस्पताल के कर्मचारियों ने तीमारदारों को लाठी-डंडों से बुरी तरह पीटा, कर दिया खून से लाल। देखें वीडियो

काशीपुर : निजी अस्पताल अब दर्द बांटने वाले कम देने वाले ज्यादा हो गए हैैं। कहीं-कहीं तो ऐसा हाल है कि तीमारदार ने अगर जरा भी अपनी पीड़ा तेज आवाज में रख दी तो वहां के संवेदनहीन कर्मचारी तीमारदारों का बुरा हाल कर देते हैैं। ऐसा ही एक उदाहरण काशीपुर में निजी अस्पताल का सामने आया है। जहां सहोता अस्पताल परिसर से बाइक गायब होने के बाद उपजे विवाद ने खूनी संघर्ष का रूप ले लिया। तीमारदारों ने बाइक गायब होने की बात क्या पूछ ली कि अस्पताल कर्मियों ने लाठी-डंडों से तीमारदारों की सड़क पर गिरा-गिराकर पिटाई कर डाली। इसमें दो तीमारदारों के सिर फट गए और तीसरा गंभीर रूप से घायल है। पिटाई का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि तीन अन्य लोगों की तलाश की जा रही है।

टांडा उज्जैन निवासी राहुल ङ्क्षसह ने कोतवाली पुलिस को दी तहरीर में बताया कि एक जून को उनके ममेरे भाई की बेटी मुरादाबाद रोड स्थित सहोता अस्पताल में भर्ती थी। वह अपनी स्पलेंडर बाइक गेट के सामने खड़ी करके अस्पताल में अंदर चले गए और मरीज की देखभाल में लग गए। बुधवार को उनकी बाइक अस्पताल कर्मियों ने गेट से उठा ली। उन्होंने गार्ड जग्गा से सीसीटीवी दिखाने को कहा और रिपोर्ट दर्ज कराने चौकी चले गए। इसी बीच बाइक को उसी जगह खड़ा करवा दिया गया। इस पर उन्होंने जग्गा व उसके सात-आठ साथियों से पूछा कि कैमरे में दिखवा दो कौन बाइक ले गया था और कौन वापस खड़ी कर गया है। इसी बात पर जग्गा व उसके साथियों ने लाठी-डंडों से हमला कर दिया। घटना में राहुल और उसके साथ आए गौरव का सिर फट गया। जबकि बलवीर ङ्क्षसह के हाथ की अंगुली टूट गई। एसआइ दीपक जोशी ने बताया कि मामले में मानपुर निवासी जगजीत ङ्क्षसह, कचनालगाजी निवासी हरङ्क्षवदर ङ्क्षसह और जसपाल ङ्क्षसह को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। दूसरी ओर अस्पताल प्रशासन की ओर से मानपुर निवासी जगजीत ङ्क्षसह ने राहुल और गौरव के खिलाफ अस्पताल में अराजकता फैलाने और महिला स्टाफ के साथ अभद्रता करने का आरोप लगा मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
एसपी काशीपुर प्रमोद कुमार ने कहा है कि सहोता अस्पताल के सामने पिटाई का वीडियो वायरल हुआ है। इसकी जांच में अभी तक तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। बाकी की जांच कर कार्रवाई की जा रही है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*