अब शुरू हुआ अंतरिक्ष पर्यटन, भारत की शिरिषा समेत पांच साथियों संग अंतरिक्ष छूकर लौटे अरबपति उद्योगपति ब्रेनसन

नई दिल्ली। भारतीय मूल के ब्रिटिश अरबपति और वर्जिन समूह के संस्थापक रिचर्ड ब्रेनसन भारतवंशी एयरोनॉटिकल इंजीनियर शिरिषा बांदला समेत पांच सहयोगियों के साथ वर्जिन गैलेक्टिक वीएसएस यूनिटी रॉकेट विमान के जरिये अंतरिक्ष छूकर सुरक्षित लौट आए हैं। भारतीय समयानुसार उनका यह विमान न्यू मैक्सिको के ही एक प्रक्षेपण केंद्र स्पेसपोर्ट पर रात करीब 9:12 बजे लौट आया। 71 साल के ब्रेनसन अपने पांच सहयोगियों के साथ भारतीय समयानुसार रात 8:10 बजे अंतरिक्ष की ऐतिहासिक उड़ान पर निकले थे। वैसे तो यह उड़ान करीब एक घंटे की थी, मगर यह अंतरिक्ष पर्यटन के लिए मील का पत्थर साबित मानी जा रही है।

उड़ान के वक्त 500 से ज्यादा लोगों की भीड़ ने ब्रेनसन और उनके साथियों को कामयाब सफर के लिए सलामी दी। इस भीड़ में ब्रेनसन की पत्नी, बच्चे और नाती-नातिन भी थे। रॉकेट विमान को शाम 6:30 बजे उड़ान भरनी थी, मगर खराब मौसम की वजह से लॉन्चिंग का वक्त डेढ़ घंटे आगे बढ़ाया गया था। इस यात्रा में ब्रेनसन के चालक दल के सभी सदस्य कंपनी के ही कर्मचारी थे।

तमिलनाडु से है ब्रैनसन का पैतृक रिश्ता

बाहरी अंतरिक्ष में जाने वाले पहले अरबपति बनकर इतिहास रचने वाले ब्रिटिश उद्यमी रिचर्ड ब्रैनसन का भारत से अनूठा रिश्ता है। 71 वर्षीय ब्रैनसन के पूर्वजों की जड़ें तमिलनाडु के कडलोर से जुड़ी थीं। मुंबई-पुणे के बीच हाइपरलूप नेटवर्क तैयार करने के लिए महाराष्ट्र सरकार से करार कर चुकी वर्जिन कंपनी के मालिक ब्रैनसन ने दिसंबर, 2019 में एक डीएनए टेस्ट के बाद खुलासा किया था कि उनके पिता की भारतीय मूल की परदादी आरिया कडलोर की निवासी थीं। वर्ष 1793 में वह शादी कर ब्रैनसन के परिवार में आ गई थीं, लेकिन उनके मायके के लोग आज भी कडलोर में रहते हैं। ब्रैनसन इस कारण खुद को भारतीय मूल का उद्योगपति मानते हैं। ब्रैनसन के मुताबिक, हर बार जब मैं किसी भारतीय से मिलता हूं, तो मैं कहता हूं कि हो सकता है हम रिश्तेदार हों।

हर टिकट के दो करोड़ रुपये

वीएसएस यूनिटी की यह 22वीं उड़ान थी, लेकिन अंतरिक्ष में इसका चौथा प्रक्षेपण था। ब्रेनसन की यह उड़ान यों ही नहीं है। इसके पीछे बड़ी कमाई करने की योजना है। उनकी कंपनी वर्जिन गैलेक्टिक ने अंतरिक्ष जाने में रुचि रखने वाले अमीर उपभोक्ताओं से वादा किया है वह उन्हें अंतरिक्ष की दुनिया का रोमांच महसूस कराएगी। कई ने पहले ही कंपनी के साथ करीब दो करोड़ रुपये प्रति सीट पर अंतरिक्ष की यात्राएं आरक्षित कर ली हैं। यदि किसी ने वर्जिन गैलेक्टिक के साथ यात्रा की बुकिंग की है तो उसे 2022 की शुरुआत में अंतरिक्ष में उड़ान भरने का मौका मिल सकता है।

2030 तक 22,500 करोड़ का होगा अंतरिक्ष पर्यटन का सालाना बाजार

ब्रेनसन की कंपनी की तैयारी 2022 से हर हफ्ते लोगों को अंतरिक्ष तक ले जाने की है। 2004 में स्थापित वर्जिन गैलेक्टिक की 2022 से व्यावसायिक उड़ान के लिए अब तक 600 से ज्यादा लोग बुकिंग करा चुके हैं। स्विट्जरलैंड के निवेशक बैंक यूबीएस ने अनुमान लगाया है कि 2030 तक अंतरिक्ष पर्यटन बाजार सालाना करीब 22,500 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा।

कौन हैं शिरिषा बांडला

34 वर्षीय सिरिषा बांडला अंतरिक्ष में जाने वाली भारतीय मूल की तीसरी महिला हैं। वह आंध्र प्रदेश के गुंटुर जिले में जन्मीं और अमेरिका के ह्यूस्टन, टेक्सास में पली बढ़ीं। इस यात्रा में बांडाला की भूमिका रिसर्चर एक्सपीरियंस की थी। कल्पना चावला और सुनीता वीलियम्स के बाद स्पेश में जाने वाली वह भारतीय मूल की तीसरी महिला हैं।

नौ दिन बाद अब बेजोस की बारी

ब्रेनसन के बाद एक और अरबपति ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी अमेजन के मालिक जेफ बेजोस भी अपनी कंपनी ब्लू ओरिजिन के न्यू शेफर्ड यान से 20 जुलाई को अंतरिक्ष में जाएंगे। बेजोस ने पश्चिमी टेक्सास से अपने लॉन्च की तारीख 20 जुलाई चुनी है, जो चंद्रमा पर अपोलो 11 के उतरने की 52वीं सालगिरह होगी।

खबरों से रहें हर पल अपडेट :

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*