spot_img

अल्मोड़ा जिला अस्पताल में बवाल, तीमारदारों ने प्रभारी प्रमुख चिकित्साधीक्षक को पीटा, कपड़े भी फाड़ डाले

अल्मोड़ा। जिला चिकित्सालय में बुधवार रात बवाल हो गया। इलाज के दौरान एक महिला की मौत पर तीमारदार नाराज हो गए और उन्होंने अस्पताल में हंगामा कर दिया। पीएमएस डा. पीएस टाकुली को भी नहीं बख्शा। उनसे भी मारपीट कर दी गई। यहीं नहीं, उनके कपड़े तक फाड़ दिए गए। इससे देर रात तक अस्पताल में अफरातफरी मची रही। अन्य मरीज और उनके तीमारदार भय के साए में रहे। मामला थमता न देख पुलिस बुला ली गई, जिसके बाद चिकित्सक और तीमारदार दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ कोतवाली में तहरीर दी गई है।

बल्टा गांव हवालबाग ब्लॉक के कृष्ण कुमार की पत्नी हेमा देवी के पेट में दर्द था। 29 अगस्त को ही कृष्ण कुमार हेमा को लेकर जिला चिकित्सालय पहुंचे थे, जहां हेमा को भर्ती कर लिया गया था। कृष्ण कुमार के मुताबिक चिकित्सकों की सलाह पर सभी टेस्ट कराए गए, मगर उन्हें रिपोर्ट नहीं बताई गई। चिकित्सकों ने महिला को अस्पताल में ही रखने का सुझाव दिया था। बुधवार शाम तकलीफ बढ़ गई तो चिकित्सकों को बुलाया गया। मगर डॉक्टर ने आने में देर कर दी, जिससे हेमा को त्वरित उपचार नहीं मिल पाया।

यह भी पढ़ें : लालकुआं में देर रात बड़ी वारदात, इलाके में फैली दहशत, एमबीपीजी का पूर्व छात्रनेता पुलिस के निशाने पर

यह भी पढ़ें : कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी की फिसली जुबान, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को बोल गए कुछ ऐसा, उड़ाया जाने लगा मजाक

वहीं हेमा देवी के बेटे अजय का कहना था कि चिकित्सकों ने मरीज को हार्ट अटैक होने की बात कही। यह भी दिलासा दी कि सांसें चल रही हैं। आधा घंटे तक उपचार का दिखावा करते रहे और फिर देर रात मौत की खबर दे दी। इसका पता लगने पर स्वजन आपा खौ बैठे और पीएमएस डा. पीएस टाकुली से धक्कामुक्की फिर मारपीट कर दी।

इस बारे में कोतवाल अरुण कुमार ने बताया कि मृतका के स्वजनों ने उपचार में लापरवाही का आरोप लगाते हुए देर रात ही तहरीर दे दी थी। गुरुवार को चिकित्सक की ओर से भी अभद्रता व मारपीट की तहरीर मिली है। जांच शुरू कर दी गई है। वहीं, सीएमओ डॉ. सविता ह्यांकी का कहना है कि पूरे घटनाक्रम की जानकारी जुटाई जा रही है। दोनों पक्षों को देखा जाएगा। इस मामले में हमें शिकायती पत्र दिया गया तो विस्तृत जांच कराई जाएगी।

पैसे न देने पर इलाज न करने का आरोप

मृतका हेमा देवी के पति कृष्ण कुमार का कहना है कि डा. पीएस टाकुली ने उसकी पत्नी को अस्पताल में ही रखने की सलाह दी थी। उन्होंने कहा था कि इलाज के लिए पैसों की जरूरत पड़ेगी, जो आप मुझे दे देना। पैसा न दे पाने के कारण इलाज मेें लापरवाही बरती गई। इसी कारण हेमा देवी की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें : CM योगी चलने वाले हैं बड़ा दांव, दो महीने में निकाल सकते हैं एक लाख सरकारी नौकरियों का विज्ञापन

यह भी पढ़ें :  बिग बॉस सीजन 13 के विनर रहे अभिनेता सिद्धार्थ शुक्ला का हार्ट अटैक से निधन, छोटे पर्दे के थे चर्चित चेहरे

पीएमएस बोले- जलाकर मारने की धमकी दी

जिला अस्पताल के पीएमएस डा. पीएस टाकुली ने कहा कि मरीज को सेप्टिसीमिया संक्रमण था। इसे कंट्रोल करने मेें समय लगता है। उसे बचाने का पूरा प्रयास किया लेकिन संक्रमण काफी बढ़ चुका था। तीमारदारों को बताया तो उन्होंने अभद्रता की। चार-पांच लोगों ने मारपीट की। कमीज फाड़ी। जलाकर मार डालने की धमकी भी दे रहे थे।

खबरों से रहें हर पल अपडेट :

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे यूट्यब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !!