सितारगंज के सर्राफ को सस्ता सोना पड़ गया महंगा, बरेली में नकली पुलिस ऐसे लूट ले गई 8 लाख रुपये

न्यूज जंक्शन 24, बरेली। आठ लाख रुपये में एक किलो सोना खरीदने आये सितारगंज के सर्राफ को कुछ लोगों ने नकली पुलिस बनकर सारे रुपये लूट लिए। डोहरा रोड स्थित एक अस्पताल के पास आरोपियों ने वारदात की। आरोपियों ने पहले असली सोना सस्ते में दिलवाकर विश्वास जीता। सराफ़ के लालच में पड़ने के बाद अचानक वारदात कर डाली। बारादरी पुलिस ने 8 लोगों को हिरासत में लिया है जिसमें दो सितारगंज तो बाकी बरेली के ही हैं। उनसे पूछताछ चल रही है। एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि मामले का जल्द खुलासा कर दिया जाएगा। आरोपी पहले भी ठगी की कई वारदात की हैं। इसको लेकर पूछताछ चल रही है।

अर्जुन कुमार साह, उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर जिले के सिसौना, सितारगंज के रहने वाले हैं। उनकी सिसौना में ज्वेलरी शॉप है। 15 दिन पहले उनके एक मित्र ने सतपाल नाम के व्यक्ति से उनकी मुलाकात करवाई। उसने बताया कि सतपाल सोने का बड़ा व्यापारी है। सतपाल ने खुद को पंजाब निवासी बताया। उसने बाजार से 15 फीसदी कम दाम में सोना दिलाने का वादा किया। उसने 8 दिन पहले बाजार से कम रेट पर 21 ग्राम सोना दिलाया। इसके बदले में उन्होंने 80 हजार रुपये दिए।

उसके बाद उसने 48 ग्राम सोना बाजार से कम दाम पर ढाई लाख रुपये में दिलवाया। दो बार में असली सोना दिलाने पर उसे सतपाल पर भरोसा हो गया। इसके बाद सतपाल ने उन्हें 500 ग्राम सोना खरीदने के लिए बरेली रेलवे स्टेशन पर बुलाया। वह बरेली गए लेकिन सोना देखने पर समझ में नहीं आया तो वापस चले गए। चार दिन पहले सतपाल ने फोन कर कहा कि अच्छा माल अब आ गया है। एक किलो सोना खरीदने के लिए उन्होंने करीब 8 लाख रुपये इकट्टा किए। सतपाल ने उन्हें डोहरा रोड पर एक अस्पताल के पास बुलाया। यहां पर अचानक कार में कई लोग आ गए और खुद को एसओजी से बताया। उन्होंने अर्जुन से कहा कि वह नकली सोना खरीद रहा है। इसके बाद 8 लाख रुपये और दो मोबाइल लूटकर फरार हो गए। पुलिस ने मामले की जांच की तो पता चला कि वारदात को अंजाम देने वाले अधिकांश सितारगंज के ही रहने वाले हैं। उनके साथ में कुछ बरेली के लोग भी शामिल हैं जो फर्जी एसओजी के पुलिसकर्मी बने थे। पुलिस ने वारदात को अंजाम देने वाले 4 लोगों को पकड़ लिया है और उनके साथियों की तलाश में जुटी है। पुलिस ने कुछ नकली एक किलो सोने की ईंट भी बरामद कर ली है।

व्हाट्सएप ग्रुप पर मुंबई में भी लूट का चला पता

पुलिस को हिरासत में लिए गए युवकों के पास से एक व्हाट्सएप ग्रुप पर वीडियो मिला है। इस वीडियो में वह मुंबई में भी वारदात की बात कह रहे हैं। महाराष्ट्र के एक अखबार की कटिंग भी मिली है जिससे आशंका है कि यह गैंग बरेली के अलावा अन्य राज्यों में भी वारदात को अंजाम देता है। बरेली में नकली एसओजी बनकर पहले भी लूट और ठगी की वारदात हो चुकी हैं। असली सोने की जगह नकली सोना बेचने के भी मामले सामने आ चुके हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*