Uttrakhand Board : आंतरिक परीक्षा कराने में स्कूलों की यह सामने आई लापरवाही, अब सीईओ, बीईओ व प्रधानाचार्यों पर यह कार्रवाई की तैयारी

देहरादून। सरकार हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा का परिणाम जारी करने की तैयारी कर रही है, मगर इसमें तमात दिक्कतें आ रही है। उत्तराखंड बोर्ड की ओर से रिजल्ट का जो मसौदा तैयार किया गया है, उसके अनुसार 10वीं और 12वीं में हुए अांतरिक परीक्षा के अंक भी जोडे़ जाने हैं, मगर प्रदेश में कई विद्यालय ऐसे हैं, जिन्होंने 10वीं व 12वीं की कक्षाओं में मासिक परीक्षा और आंतरिक मूल्यांकन कराया ही नहीं। ऐसे में इन विद्यालयों के छात्रों का परिणाम कैसे तैयार होगा, इसे लेकर अधिकारी पशोपेश में हैं। अब इस लेकर बरती गई लापरवाही प्रधानाचार्यों और शिक्षाधिकारियों को भारी पड़ेगी। बोर्ड रिजल्ट तैयार करने में यह चूक शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय को सख्त नागवार गुजरी है। ऐसे विद्यालयों के प्रधानाचार्यों के साथ ही संबंधित खंड शिक्षाधिकारियों और मुख्य शिक्षाधिकारियों को कारण बताओ नोटिस देने के निर्देश दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें : Uttrakhand Board Result : इस आधार पर पास होंगे उत्तराखंड 10वीं व 12वीं छात्र, तैयार हो रहा फार्मूला। प्रेक्टिकल न देने वालों के लिए अब यह करना होगा

यह भी पढ़ें : Uttrakhand Board Result : इस आधार पर पास होंगे उत्तराखंड 10वीं व 12वीं छात्र, तैयार हो रहा फार्मूला। प्रेक्टिकल न देने वालों के लिए अब यह करना होगा

कोरोना संकट को देखते हुए सरकार ने बीते शैक्षिक सत्र 2020-21 में 10वीं व 12वीं की कक्षाओं के संचालन की अनुमति दी थी। बीते नवंबर से मार्च माह यानी पांच महीनों के दौरान सरकारी, अनुदानप्राप्त अशासकीय और उत्तराखंड बोर्ड से मान्यताप्राप्त निजी माध्यमिक विद्यालयों को बोर्ड परीक्षार्थियों की पढ़ाई के लिए खोला गया था। शासन काफी पहले ही मासिक परीक्षा लेने के आदेश जारी कर चुका था। इसके बावजूद विद्यालयों के स्तर पर छात्र-छात्राओं के लिए मासिक परीक्षा समेत अन्य आंतरिक मूल्यांकन की व्यवस्था नहीं की गई।

सीबीएसई समेत अन्य राज्यों में प्री-बोर्ड एवं अन्य तरीके से हुए आंतरिक मूल्यांकन को 10वीं व 12वीं के रिजल्ट के लिए ज्यादा तवज्जो दी गई है। उत्तराखंड में विद्यालयों के स्तर पर बरती गई लापरवाही के चलते आंतरिक मूल्यांकन के अंकों को रिजल्ट में ज्यादा महत्व नहीं देने के लिए कदम उठाने की नौबत आई। मंगलवार को विभागीय समीक्षा के दौरान सामने आने पर शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय खफा हो गए। उन्होंने इस लापरवाही को गंभीरता से लेने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें : CBSE result : 30 जून के बाद आ रहा है 10वीं का रिजल्ट, जानिए छात्रों को ऐसे मिलेंगे नम्बर

शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम ने बताया कि कुछ विद्यालयों ने मासिक परीक्षाएं कराईं। यह परीक्षा नहीं कराने वाले विद्यालयों की संख्या काफी है। ऐसे विद्यालयों के प्रधानाचार्यों के साथ ही खंड शिक्षाधिकारियों और मुख्य शिक्षाधिकारियों का जवाब तलब किया जाएगा। उन्हें नोटिस भेजे जा रहे हैं।

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*