एसएसबी तलाश रही थी अपना जवान, वह परिसर में ही पड़ा मिला मृत

न्यूज जंक्शन 24, चम्पावत

पंचम वाहिनी एसएसबी परिसर में शुक्रवार को एक जवान का खून से लथपथ शव मिला। जिससे एसएसबी परिसर में हड़कंप मच गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पूछताछ शुरू की तो पता चला कि जवान पारिवारिक कलह से काफी परेशान था। तीन दिन पूर्व ही अवकाश से परिसर में पहुंचा था। क्वारंटीन में रहने के दौरान गुरुवार शाम से लापता था। वह अत्यधिक नशे में था। पुलिस ने घटना की सूचना परिजनों को देने के साथ शव पीएम के लिए भेज दिया है। प्रथम दृष्टया पुलिस खुदकुशी करने की आशंका जता रही है।
पंचम वाहिनी एसएसबी चम्पावत में तैनात हेड कांस्टेबल विनोद पनवार 38 पुत्र सुरेश पनवार निवासी इछावर, थाना इछावर जिला सिरोह मध्य प्रदेश का रहने वाला है। वह वर्ष 2006 में एसएसबी में भर्ती हुआ था। अगस्त माह में वह प्रमोशन कोर्स के लिए अलवर गया था। जहां से दो माह का अवकाश पूरा करने के बाद उसने 25 नवंबर को ड्यूटी ज्वाइन की थी। ड्यूटी जवान करने से पूर्व उसने ट्रूनेट टेस्ट कराया था। गुरुवार 26 नवंबर को रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद शाम करीब सात बजे बैरक से लापता हो गया। जवानों ने काफी खोजबीन की लेकिन उसका कहीं भी पता नहीं चला। इस पर एसएसबी ने उसकी गुमशुदगी दर्ज कर ली। शुक्रवार सुबह एसएसबी परिसर में बने टाइप-थ्री के बी ब्लॉक एसओज क्वार्टर के पीछे खून से लथपथ शव संदिग्ध अवस्था में दिखाई दिया। एसएसबी के लोक निर्माण विभाग के जेई ने सबसे पहले देखकर उच्चाधिकारियों को इसकी सूचना दी। सूचना पर स्थानीय कोतवाली पुलिस के साथ सीओ ध्यान सिंह मौके पर पहुंच गए। कुछ देर बाद एसपी लोकेश्वर सिंह भी घटनास्थल पर पहुंच गए और मामले की छानबीन शुरू की। पुलिस प्रथम दृष्टया जांच में जवान द्वारा खुदकुशी करने का अंदेशा जता रही है। छानबीन में यह भी पता चला कि युवक रात्रि में जंगल के रास्ते से परिसर से बाहर आया और अत्यधिक शराब का सेवन कर खेतो व जंगलो के रास्ते छुपते-छुपाते कैम्पस में प्रवेश कर एक चौमंजिला इमारत में छुपने हेतु गया। अत्यधिक शराब के नशे में होने के कारण सम्भवत: वह चौमंजिला इमारत से सीधे मुंह के बल नीचे गिरा जिससे उसकी मौके पर ही मृत्यु हो गयी। एसपी लोकेश्वर सिंह ने बताया कि मामले की अत्यधिक जांच के लिए चार टीमें गठित कर दी हैं। जो सभी एंगल से पड़ताल करेंगी। जवान का परिवार के साथ हमेशा कलह रहती थी।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*