Uttrakhand Big News : प्रदेश की सभी निजी लैबों में कराई गई कोरोना की जांच पर आंच, सरकार ने दिया यह बड़ा आदेश। मचा हड़कंप, जानिए क्यों

हरिद्वार। कुंभ के दौरान कोरोना जांच में घपले की शिकायत की आंच अब प्रदेश के सभी निजी लैबों पर आ गई है। शासन ने प्रदेश की सभी प्राइवेट लैबों की जांच करने के आदेश दे दिए हैं। इससे निजी लैब संचालकों में हड़कंप मच गया है।

यह भी पढें : कोरोना की तीसरी लहर : बच्चों की सुरक्षा पर DGHS ने जारी की गाइडलाइन, बताया किसे है मास्क जरूरी किसे नहीं। पढ़िए दवाओं पर क्या कहा

बता दें कि हरिद्वार कुंभ के दौरान केंद्र सरकार ने राज्य सरकार के लिए कोरोना की आरटीपीसीआर जांच का लक्ष्य निर्धारित किया था। राज्य सरकार ने इसकी जिम्मेदारी निजी लैबों को दे दी थी, मगर इस लक्ष्य को पूरा दिखाने के लिए बड़ा गड़बड़झाला कर दिया गया। पता चला कि कई जांचें फर्जी दिखा दी गई थीं। जिनके सैंपल लिए ही नहीं गए, उनके पास जांच रिपोर्ट भेज दी गईं और जांच कराने वालों को रिपोर्ट कभी मिली ही नहीं। मामला तब खुला, जब फरीदकोट (पंजाब) निवासी युवक ने आईसीएमआर से इसकी शिकायत की। यह बात सरकार तक पहुंची तो हड़कंप मच गया, जिसके बाद सरकार ने पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए । अब हरिद्वार जिला प्रशासन ने इसकी जांच शुरू कर दी है। इसके लिए सीडीओ सौरभ गहरवार की अध्यक्षता में समिति बनाई गई, जिसने शुक्रवार को जांच से संबंधित पत्रावलियों और दस्तावेजों का अध्ययन किया। साथ ही, स्वास्थ्य विभाग से संबंधित डाटा भी मांगा।

C Corona guidelines in nainital :. नैनीताल जिले में यह रहेंगी पाबंदियां और यह मिलेगी छूट, पढ़िये डीएम की विस्तृत गाइडलाइन

यह भी पढें : Uttrakhand Board : 12वीं की परीक्षा को लेकर सरकार का बड़ा फैसला, शिक्षा सचिव ने जारी किया यह आदेश

वहीं, सरकार को अंदेशा है कि ऐसा केवल हरिद्वार ही नहीं, बल्कि पूरे प्रदेश में गड़बड़ी की गई है, जिसके कारण सभी प्राइवेट लैब जांच के दायरे में आ गए हैं। अब शासन ने प्रदेश की सभी निजी लैबों की जांच के भी आदेश दे दिए हैं।

स्वास्थ्य विभाग भी सवालों के घेरे में

कोरोना जांच में घपले के आरोपों के बीच हरिद्वार जिले का स्वास्थ्य विभाग भी सवालों के घेरे में है। आरोप है कि बिना पर्याप्त मानव संसाधन और व्यवस्था के कैसे स्वास्थ्य विभाग ने 13 माह में 15 लाख 69 हजार कोरोना जांच की। जबकि पिछले साल अप्रैल से जुलाई तक स्वास्थ्य विभाग को कोरोना सैंपल भी जांच के लिए बाहर भेजने पड़ते थे। इनके कलेक्शन की रफ्तार भी बेहद धीमी थी, जो कई बार प्रतिदिन हजार से भी कम रहती थी। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि आखिर इस व्यवस्था और मामूली मानव संसाधन के कैसे इतनी जांच हो गई। सीएमओ हरिद्वार डा. एसके झा ने कोई भी जानकारी देने से मना कर दिया।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*