spot_img

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा अग्निपथ के विरोध का मामला, याचिका दाखिल कर की गई ये मांग

न्यूज जंक्शन 24, नई दिल्ली। अग्निपथ योजना के खिलाफ देशभर में मचे बवाल का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है ( protest against Agneepath reached the Supreme Court)। इस योजना को लेकर शीर्ष अदालत में एक जनहित याचिका दाखिल की गई है। याचिका के जरिए सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में अग्निपथ योजना की समीक्षा की मांग की गई है।

यह याचिका सर्वोच्च अदालत में वकील विशाल तिवारी ने दाखिल की है। याचिका में विशाल तिवारी ने अग्निपथ को लेकर देश के कई राज्यों में हुई हिंसा के मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित करने की अपील की है। साथ ही देशभर में हुई हिंसा को लेकर स्टेटस रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करने की मांग भी की है ( protest against Agneepath reached the Supreme Court)।

देश भर में हो रहा विरोध, दो लाेगों की हो चुकी मौत

गौरतलब है कि सेना में भर्ती के लिए ‘अग्निपथ’ योजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की शुरुआत बिहार से हुई थी, जिसके बाद इस प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया और देश के विभिन्न राज्यों में फैल गई। इस हिंसक प्रदर्शन में अब तक दो लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें एक प्रदर्शनकारी बताया जा रहा है। वहीं, शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन के तहत तेलंगाना के सिकंदराबाद में पुलिस की गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। आक्रोशित युवाओं के प्रदर्शन के दौरान कई ट्रेनों में आग लगा दी गई थी, निजी, सार्वजनिक वाहनों, रेलवे स्टेशन में तोड़फोड़ की गई और राजमार्गों तथा रेलवे लाइन को अवरूद्ध कर दिया गया था। इस बीच योजना के विरोध में बिहार में छात्र संगठनों ने 24 घंटे के बिहार बंद का आह्वान किया है। यह बंद ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन की ओर से बुलाया गया है। वहीं, पुलिस जांच में ये बात सामने आई है कि इन हिंसक प्रदर्शनों के पीछे कोचिंग सेंटर संचालकों का हाथ है।

से ही लेटेस्ट व रोचक खबरें तुरंत अपने फोन पर पाने के लिए हमसे जुड़ें

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे यूट्यब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

हमारे फेसबुक ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !!