spot_img

UP की बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में नहीं होंगी परीक्षाएं या कोई टेस्ट, हिन्दी और गणित की पढ़ाई पर ज्यादा जोर

लखनऊ। तीसरी लहर की आशंका के बीच स्कूल खुलने के बाद से ही सरकार बच्चों के स्वास्थ्य के साथ ही उनकी पढ़ाई को लेकर ज्यादा सतर्कता बरत रही है। उन पर किसी तरह का दबाव न पड़े, इसका खास ध्यान रखा जा रहा है। इसी के तहत अब तय किया गया है कि बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में विद्यार्थियों की किसी प्रकार के टेस्ट और लिखित एवं मौखिक परीक्षाएं नहीं कराई जाएंगी। कक्षा 6 से 8 तक में हिन्दी और गणित विषय के अध्ययन पर अधिक जोर दिया जाएगा। साथ ही विज्ञान व अंग्रेजी विषय पर भी ध्यान दिया जाएगा। विभाग की सचिव अनामिका सिंह ने इसके दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।

यह भी पढ़ें : खतरा : कोरोना के नकली टीके ने बढ़ाया खतरा, केंद्र सरकार ने उत्तराखंड-यूपी समेत सभी राज्यों जारी की गाइडलाइन, ऐसे करें असली-नकली में फर्क

यह भी पढ़ें : आज से राज्य के 22 हजार उपनल कर्मचारी पर, लड़खड़ाईं व्यवस्थाएं, हल्द्वानी एसटीएच में भटक रहे मरीज-तीमारदार

बेसिक शिक्षा विभाग का मानना है कि कोरोना के कारण लर्निंग गैप काफी बन गया है। इसे दूर करने के लिए शिक्षकों व बच्चों के साथ गतिविधियां आयोजित कर बच्चों के वर्तमान शैक्षिक स्तर को समझा जा सकता है। इसी के मद्​देनजर कोरोना की दूसरी लहर के भयावह रूप को देखने और अनुभव करने के बाद बच्चे स्कूल आ रहे हैं, ऐसे में उन पर स्कूल आते ही पढ़ाई का बोझ डालने की जगह सहज वातावरण दिया जाएगा। शिक्षकों को बच्चों के साथ खेल गतिविधियां करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही पहले और दूसरे सप्ताह में रोजाना बच्चों को एक शिक्षाप्रद कहानी सुनाई जाएगी। कक्षा 1 से 5 में प्रतिदिन एक घंटे गणित व एक घंटा हिन्दी की पढ़ाई कराई जाएगी। शेष समय में बच्चों के साथ खेलकूद की गतिविधियों के साथ बच्चों को पुस्तकालय की पुस्तकें पढ़ने का अवसर दिया जाएगा।

दो पालियों में चल सकते हैं स्कूल

विद्यालयों को पूर्व निर्धारित समय-सारिणी के अनुसार संचालित किया जाएगा। जिन विद्यालयों में बच्चे अधिक संख्या में उपस्थित हो रहे हैं, वहां पठन-पाठन तीन-तीन घंटे की दो पालियों में संचालित किया जाएगा। ऐसे विद्यालय जहां बच्चों के बैठने की पर्याप्त व्यवस्था उपलब्ध है, वहां एक ही पाली में सुबह 8 से दोपहर 3 बजे तक स्कूल का संचालन किया जाएगा। साथ ही जो बच्चे स्कूल नहीं आ रहे हैं, शिक्षक उनके घर जाकर अभिभावकों से संपर्क कर उनकी काउंसलिंग कर उन्हें बच्चों को स्कूल भेजने के लिए तैयार करेगी।

दूरदर्शन पर ई-पाठशाला भी चलेगी

उत्तर प्रदेश दूरदर्शन पर प्रतिदिन सुबह 9 से दोपहर 1 बजे तक ई-पाठशाला का आयोजन किया जाएगा। ई पाठशाला के संचालन के लिए प्रदेश स्तर से कक्षावार एवं विषयवार शैक्षणिक सामग्री प्रत्येक रविवार को सुबह 10 बजे वाट्सएप ग्रुप से शिक्षकों को दी जाएगी। शिक्षक उस सामग्री को अभिभावकों के वाट्सएप ग्रुप में साझा करेंगे। राज्यस्तर से प्रत्येक शनिवार को वाट्सएप के माध्यम से साप्ताहिक क्विज प्रतियोगिता की सामग्री भी साझा की जाएगी।

खबरों से रहें हर पल अपडेट :

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे यूट्यब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !!