महिलाओं को सम्मोहित कर गहने हड़प लेता था यह तांत्रिक बाबा, CM के साथ तक खिंचवा चुका है फोटो, अब पुलिस ने पकड़ा तो राजनीतिक गलियारे में मची हलचल

देहरादून। पुलिस ने एक ऐसे बाबा को गिरफ्तार किया है, जो महिलाओं को सम्मोहित कर उनके गहने और रुपये हड़प लेता था। तांत्रिक बाबा के नाम से जाने जाने वाले इस शख्स का नाम योगी प्रियव्रत अनिमेश उर्फ महेंद्र रोड उर्फ रोबिन खलीफा है। बीते दिनों इसने ऋषिकेश के सराफा व्यापारी की पत्नी को सम्मोहित कर उससे लाखों की ठगी कर ली थी, जिसके बाद यह पुलिस के निशाने पर आ गया, मगर हैरानी वाली बात ये है कि इस शख्स की पहुंच काफी ऊपर तक है। मुख्यमंत्री और विधानसभा अध्यक्ष तक के साथ इसने अपनी फोटो खिंचवाई है। बताया जा रहा है कि बीते 10 जुलाई को तांत्रिक बाबा ने राजनेताओं केे हाथों अपनी पुस्तिका का भी विमोचन कराया था। इस कारण इसकी गिरफ्तारी से राजनीतिक गलियारों में हलचल गई गई है। ठगी के इस आरोपित को हरियाणा पुलिस ने पकड़ा है।

ऋषिकेश के सराफा व्यापारी का कहना है कि दिसंबर 2019 से अब तक तांत्रिक बाबा उनकी पत्नी को सम्मोहित कर नौ लाख के सोने चांदी के आभूषण हड़प चुका है।उनकी पत्नी मानसिक रूप से बीमार चल रही थीं। उपचार के बहाने से बाबा से उनकी मुलाकात हुई थी। पकड़े गए बाबा ने यह भी खुलासा किया है कि महाकुंभ के समापन पर स्वयं को उन्होंने एक अखाड़े संत का शिष्य बताकर नेचर बिला में लोककल्याण अनुष्ठान आयोजन कर महाकुंभ के विधिवत समापन की भी घोषणा की थी, तब अनुष्ठान के दौरान अंडमान निकोबार के एक सांसद, सिक्किम की एक महिला आईपीएस, सराफा व्यापारी और उनकी पत्नी समेत कई बड़े अधिकारी शामिल हुए थे। बताया जा रहा है कि बाबा के संबंध हरियाणा से जुड़े हैं।

मुख्यमंत्री कार्यालय करा रहा है जांच, होगी कार्रवाई

ठगी के आरोप में फंसे तांत्रिक बाबा की बीजापुर स्थित अतिथि गृह में किसने एंट्री कराई और कौन लोग हैं जिन्होंने एक विवादित बाबा की पुस्तक का विमोचन मुख्यमंत्री से करा दिया। इन सभी पहलुओं की जांच शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री कार्यालय यह जांच कर रहा है। मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव आनंद बर्द्धन ने मामले की जांच कराए जाने की पुष्टि की है। कहा जा रहा है कि बीती नौ जुलाई को जब मुख्यमंत्री बीजापुर अतिथि गृह में थे, उस दौरान वहां योगी प्रियव्रत अनिमेष की एंट्री कराई गई। मुख्यमंत्री से बाबा की आध्यात्म एवं नैतिक आख्यानों पर आधारित एक पुस्तक मानस मोती का विमोचन कराया गया। इसके अगले दिन रविवार को बाबा के खिलाफ ऋषिकेश कोतवाली में ठगी का मुकदमा दर्ज हुआ। यह खुलासा होने के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय भी सकते में आ गया।

खबरों से रहें हर पल अपडेट :

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*