सो रहे परिवार पर धराशाई हुआ मकान, आंख खुलने से पहले ही आ गई तीन लोगों को मौत की नींद

183
खबर शेयर करें -

न्यूज जंक्शन 24, पिथौरागढ़। पहाड़ पर आपदा की बारिश लगातार जारी है। हालत यह हो गई है कि पिथौरागढ़ में रहने वाले अधिकांश लोग रात को जागकर काट रहे हैं। एक गाँव मे एक मकान के ध्वस्त होने से तीन लोगों की मौत ही गई।
जिला मुख्यालय के बिण विकास खंड के मटियानीचैसर में एक पुराना मकान सुबह करीब चार बजे के समय भरभराकर धराशायी हो गया। जिसके मलवे में दबकर पिता, पुत्र और पुत्री की मौत हो गई। मृतक की पत्नी घायल है। उक्त जर्जर मकान चैसर निवासी खुशाल नाथ पुत्र गोविंद नाथ का था। मकान में रहने वाले परिवार के चार सदस्य खुशाल नाथ, उसकी पत्नी, चार साल का पुत्र और दो साल की पुत्री मलबे में दब गए। घटना होने से गांव में हड़कंप मच गया। पड़ोसियों ने पुलिस और 108 को सूचना दी। प्रशासनिक टीम व ग्रामीण चारों लोगों को मलबे से निकालकर अस्पताल लाए। जहां 29 साल के खुशाल नाथ, पांच साल के धनंजय, निकिता 2 वर्ष की अस्पताल पहुंचने से पूर्व मौत हो गई। निधि पत्नी खुशाल नाथ घायल है। उसे अस्पताल में भर्ती किया गया है। एसडीएम तुषार सैनी मौके पर पहुंच गए हैं।