शनिवार को दिल्ली-एनसीआर में आने वाली है बड़ी आफत, सरकार ने की ये तैयारी

210
खबर शेयर करें -

न्यूज जंक्शन 24, नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में शनिवार को वायु गुणवत्ता बहुत खराब रहेगी। वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग ने प्राधिकारियों को ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान (GRAP) का दूसरा चरण लागू करने का निर्देश दे दिया है, जिसके बाद होटल, रेस्तरां और खुले भोजनालयों के संचालक कोयला एवं लकड़ियों में आग नहीं जला पाएंगे। जीआरएपी के दूसरे चरण के तहत आवश्यक सेवाओं को छोड़कर डीजल जनरेटर का इस्तेमाल भी प्रतिबंधित है।

क्या है GRAP

GRAP राजधानी और उसके आस-पास के क्षेत्रों में वायु प्रदूषण को काबू करने के लिए स्थिति की गंभीरता के अनुसार उठाए जाने वाले कदमों से जुड़ी योजना है। इसे चार चरणों के तहत वर्गीकृत किया गया है। वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) के 201 से 300 के बीच यानी खराब श्रेणी में होने पर प्रथम चरण लागू किया जाता है। AQI के 301 से 400 के बीच यानी बहुत खराब श्रेणी में होने पर दूसरा चरण, 401 से 450 के बीच गंभीर श्रेणी में होने पर तीसरा चरण और 450 से अधिक यानी अत्यधिक गंभीर श्रेणी में होने पर चौथा चरण लागू किया जाता है।

दिवाली पर और बिगड़ेगी स्थिति

सीएक्यूएम ने कहा कि राजधानी में शनिवार से ठंडी हवाओं और स्थायी वायुमंडलीय परिस्थिति के अनुमान के कारण 22 अक्टूबर से एक्यूआई बहुत खराब श्रेणी में पहुंच सकता है। 24 अक्टूबर को दिवाली के कारण स्थिति और बिगड़ सकती है। वायु गुणवत्ता और खराब होने से रोकने के लिए उपसमिति ने जीआरएपी के दूसरे चरण को लागू करने का फैसला किया है।

पार्किंग शुल्क बढ़ जाएगा

राष्ट्रीय सुरक्षा, रक्षा से संबंधित गतिविधियों, राष्ट्रीय महत्व की परियोजनाओं, दूरसंचार, डेटा सेवाओं, चिकित्सा, रेलवे और मेट्रो रेल सेवाओं, हवाई अड्डों, अंतर-राज्यीय बस अड्डों और मल जल उपचार संयंत्र से संबंधित आवश्यक सेवाओं को छोड़कर डीजल जनरेटर के उपयोग की भी अनुमति नहीं होती। इस चरण में निजी वाहनों के इस्तेमाल को हतोत्साहित करने और बस एवं मेट्रो सेवाओं का उपयोग बढ़ाने के लिए अधिकारियों को पार्किंग शुल्क में वृद्धि करने का निर्देश दिया जाता है।

प्रदूषण कम करने को ये उपाय अपनाएंगे

चरण दो के तहत उठाए जाने वाले कदमों में हर दिन सड़कों की वैक्यूम-आधारित सफाई, धूल उड़ने से रोकने के लिए पानी का छिड़काव और निर्माण एवं विध्वंस स्थलों पर धूल नियंत्रण उपायों को सख्ती से लागू करना शामिल है। दिल्ली में लगातार चौथे दिन वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में दर्ज की गयी। पिछले 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) शाम चार बजे 228 दर्ज किया गया।