अल्मोड़ा में फटा बादल- मलबे के साथ बहने लगा पानी, भारी तबाही

32
खबर शेयर करें -

उत्तराखंड में जंगलों की आग के बाद अब बारिश तबाही मचाने लगी है। अल्मोड़ा जिले के सोमेश्वर में बुधवार देर शाम बादल फटने की घटना सामने आई है। इससे भारी तबाही मची है। बारिश का पानी मलबे के साथ घरों के आगे नाले के रूप में बहने लगा। इस कारण लोग घरों को छोड़कर सुरक्षित स्थानों की ओर दौड़ पड़े। बारिश के पानी के साथ मलबा और बोल्डर घरों तक पहुंचे, इससे मकानों में दरारें पड़ गईं। प्रशासन की टीम ने मौके पर पहुंचकर नुकसान का जायजा लिया।

यह भी पढ़ें 👉  स्कूलों में राज्य आंदोलन और शहीदों के बलिदान को पढ़ेंगे बच्चे, पुस्तक हुई तैयार

बुधवार देर शाम सोमेश्वर क्षेत्र के चनौदा और अघूरिया में अचानक बादल फटा और भारी बारिश हुई। चनौदा में गांव के पीछे की ओर से बारिश का पानी अपने साथ मलबा और बोल्डर बहा लाया। देखते ही देखते मलबा और बोल्डर घरों के आगे पहुंच गए तो लोग बाहर की तरफ दौड़ पड़े। कुछ ही देर में मलबे से कुंवर भाकुनी, सुनील भाकुनी, संजय भाकुनी, बालम भाकुनी, ललित भाकुनी के मकान पट गए। घरों में रखा सामान भी मलबे में दब गया।

यह भी पढ़ें 👉  स्वास्थ्य सचिव के निर्देश- अतिथि देवो भवः की परंपरा से हो यात्रियों का स्वागत

एक घंटे बाद बारिश थमने के बाद ग्रामीणों ने घरों में पहुंचने की हिम्मत जुटाई। दहशत के कारण ग्रामीण पूरी रात नहीं सो सके। बारिश न होने से क्षेत्र में बहने वाली साईं और कोसी नदी सूखने के कगार पर पहुंच चुकी थीं। बुधवार को हुई भारी बारिश के बाद दोनों नदियां अचानक उफान पर आ गईं। पहली ही बारिश में दोनों नदियों का जलस्तर काफी बढ़ गया।