चौक और खड़िया से बन रही थी वायरल फीवर, किडनी इंफेक्शन, ब्लड प्रेशर, एंटीबायोटिक की दवाएं। उत्तराखंड में नकली दवा बनाने का बड़ा खुलासा

184
खबर शेयर करें -

न्यूज जंक्शन 24, रुड़की : पैसे के लिए आदमी दूसरों की जान अब भी खेल रहा है। रुड़की में पकड़ी गई नकली दवाओं की फैक्ट्री इसका बड़ा सबूत सामने है। यहां तीन साल से चल रही इन दो फैक्ट्रियों में चौक, खड़िया समेत तमाम उन चीजों से दवा बन रही थी जो लगातार सेवन से जानलेवा सावित हो सकती है। प्रशासनिक टीमों ने छापा मारकर दोनों फैक्ट्रियों को सील कर दिया है और संचालकों को गिरफ्तार कर लिया है। डेढ़ करोड़ कीमत की नकली दवाएं मिली हैं और पांच लाख रुपये नकद मिले हैं।
एसपी देहात स्वपन किशोर सिंह ने बताया कि सालियर गांव में माधोपुर रोड पर वीआर फार्मा कंपनी में नकली दवा बनाने की शिकायत मिल रही थी। टीम ने आज अचानक छापा मारा तो सारा खेल खुल गया। औषधि निरीक्षक मानवेन्द्र सिंह राणा और पुलिस टीम ने जो भी दवाएं पकड़ीं, उनकी पेकिंग ब्रांडेड कंपनियों की थी। एसपी ने बताया कि करीब 11 प्रकार की नकली दवाएं पकड़ी गई हैं। फेक्ट्री संचालक प्रवीण त्यागी निवासी ग्राम इकड़ी कोतवाली सरधना मेरठ को गिरफ्तार किया गया है। उनके पास से कोई लाइसेंस भी नहीं मिला है। प्रवीण त्यागी का एक सहयोगी कपिल त्यागी भी गिरफ्तार किया गया है। इन दवाओं की सप्लाई कई शहरों में थी। पूछताछ कर शहरों और फर्मों का पता लगाया जा रहा है। औषधि निरीक्षक ने बताया कि एंटीबायोटिक, वायरल फीवर की दवा, किडनी इंफेक्शन, ब्लड प्रेशर और सर्दी जुखाम की दवा यहां बन रही थीं।