spot_img

पहली पत्नी का पता लगा तो लड़ने लगी दूसरी दुल्हन, राजकुमार बनकर शादी करने वाले आसिफ ने खेला फिर खौफनाक खेल।

न्यूज जंक्शन 24, बदायूं।

सिविल लाइंस थाना क्षेत्र में शुक्रवार रात महिला नेहा की गोली मारकर हत्या किसी और ने नहीं बल्कि उसके ही शौहर आसिफ उर्फ राजकुमार ने ही की थी। हत्या के पीछे की वजह आसिफ की एक और शादी होना सामने आई है। असलियत सामने आने से आसिफ और नेहा के बीच गृहकलह बढ़ गया था। पुलिस ने आसिफ को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक शहर के मोहल्ला लोटनपुरा में रहने वाली नेहा को पिता की मौत के बाद उसके ताऊ ने पाल-पोसकर बड़ा किया था। ताऊ-ताई की वह लाडली थी। मां और एक भाई उत्तराखंड के रुद्रपुर में रहते थे। लगभग डेढ़ साल पहले वह उत्तराखंड के रुद्रपुर में अपनी मां और भाई के पास गयी थी। वहां उसे सिविल लाइंस इलाके के शेखूपुर गांव का आसिफ मिला। आसिफ ने धर्म छिपाते हुए अपना नाम राजकुमार बताया। दोनों के बीच कुछ दिन प्रेम प्रसंग रहा और इसके बाद नेहा ने उससे शादी कर ली। बाद में दोनों दिल्ली जाकर बस गये। नेहा के परिजनों ने भी उससे नाता तोड़ लिया था। पिछले दिनों ही दोनों वापस आए थे तो नेहा को पता लगा कि आसिफ शादीशुदा है और दूसरे संप्रदाय का है। इसके बाद से ही दोनों के बीच विवाद चल रहा था। गृहकलह के चलते शुक्रवार देर रात आसिफ ने नेहा को गोली मारकर हत्या कर दी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सीने में गोली लगकर पीठ की ओर से पार जाने की भी पुष्टि हुई है। रात में ही पुलिस ने पूछताछ के बाद आसिफ को गिरफ्तार कर लिया। हत्या में प्रयुक्त तमंचा आरोपी की निशानदेही पर बरामद कर लिया है।

शातिर आसिफ के बहकावे में आ गई थी विवाहित
पति के साथ बदायूं में रहने और भाइयों को जानलेवा हमले के मामले में फंसाने की साजिश में खुद नेहा की जान चली गयी। वजह है कि आसिफ उसे रास्ते से हटाने की ठान चुका था और इसके लिए उसने नेहा को ही बहका दिया। यही वजह रही कि दोनों योजनाबद्ध तरीके से पिछले कई दिन से एक-दूसरे के मोबाइल पर काल करके बताते थे कि उसके भाई असलहे लेकर घूमते दिखे हैं और घटना हो सकती है। भविष्य में मुकदमा लिखाने के बाद पुलिस को ये रिकार्डिंग सुनाकर गुमराह किया जा सके और भाइयों को जेल भिजवाकर आराम से दोनों रह सकें। पुलिस ने हर पहलू पर पड़ताल की जिम्मेदारों की सूजबूझ से उसके बेकसूर भाई जेल जाने से बच गए। आसिफ ने खुद ये राज पुलिस के सामने उगले हैं।

कंप्यूटर कोचिंग में हुई थी मुलाकात

आसिफ और नेहा की मुलाकात कुछ साल पहले शहर में ही एक कंप्यूटर कोचिंग में हुयी थी। भाइयों ने विरोध किया तो वह उत्तराखंड के रुद्रपुर में पिता की मौत के बाद जाकर बस गई। आसिफ पेशे से कारपेंटर था और वो भी वहां जा पहुंचा। पुलिस के मुताबिक मां पर उसने शादी का दबाव बनाया तो उसकी शादी आसिफ से करवा दी गई लेकिन दूसरे पक्ष के युवक के साथ शादी होने से अन्य सदस्य खफा थे, इसलिए दोनों दिल्ली जाकर बस गये।

पहली पत्नी भी पहुंची
आसिफ की पहली पत्नी भी दिल्ली पहुंच गयी थी। वहां इन दोनों के बीच झगड़ा शुरू हो गया था। रोजाना की कलह के बीच लॉकडाउन लगा तो पहली पत्नी वापस आगरा अपने मायके चली गयी। आसिफ की जेब भी खाली हुयी तो उसने बदायूं में साथ रहने का झांसा देते हुये यहां ले आया। यहां भाइयों से खतरे के चलते उन्हें झूठे मुकदमे में फंसाने की योजना बनायी और साजिश के तहत सच में उसे मौत के घाट उतार दिया। आसिफ ने उसे कहा था कि वह ऐसे गोली मारेगा जिससे हल्का जख्म हो लेकिन सीधे सीने पर गोली मार दी।

आसिफ उर्फ राजकुमार की असलियत सामने आने के बाद हत्या की बात सामने आ रही है। नेहा की मां और एक भाई यहां पहुंच रहे हैं। वो शव को अपने साथ ले जाते हैं तो ठीक है। वरना उन्हें समझाया जाएगा। अन्यथा की स्थिति में पुलिस अपने स्तर से शव का अंतिम संस्कार करेगी।
-संकल्प शर्मा, एसएसपी

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !!