नाकाम हुआ मंसूबा- एमडी परीक्षा में नकल कराते पांच गिरफ्तार, दो डॉक्टर भी शामिल, बनाया गया था ग्रुप

49
खबर शेयर करें -

नकल माफियाओं पर दून पुलिस ने सर्जिकल स्ट्राइक की है। ऑल इंडिया स्तर पर एम्स द्वारा आयोजित एमडी परीक्षा (इंस्टीट्यूट आफ नेशनल इंर्पाेटेंस कंबाइंड एंट्रेंस टेस्ट जुलाई 2024) में नकल कराते पांच अभियुक्तों को दून पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

परीक्षा केंद्रों से परिक्षार्थियों द्वारा प्रश्न पत्र की फोटो खींचकर टेलीग्राम के माध्यम से अभियुक्तों को उपलब्ध कराया जा रहा था। जिनके उत्तर अभियुक्तो द्वारा टेलीग्राम ग्रुप के माध्यम से परिक्षार्थियों को भेजे जा रहे थे। पुलिस के अनुसार, परीक्षार्थियों को नकल कराने में एम्स ऋषिकेश के दो डॉक्टर भी शामिल थे। अभियुक्त द्वारा प्रत्येक अभ्यर्थी को एमडी की परीक्षा में पास कराने के एवज में 50 लाख रुपए लिये गये थे।

बता दें कि पुलिस को परीक्षा केंद्रों में परीक्षा के दौरान परिक्षार्थियों को अनुचित माध्यमों से नकल कराए जाने की गोपनीय सूचना मिली थी। जिसके बाद ऋषिकेश पुलिस और एसओजी देहात की संयुक्त टीम का गठन किया गया। टीम ने रविवार देर रात को बैराज रोड पर एक टाटा सफारी संख्या DL3CW5412 में बैठे पांच व्यक्तियों को एम्स की एमडी परीक्षा में कांगडा हिमाचल के परीक्षा केंद्र में अभ्यर्थियों को मोबाइल फोन एवं टैब के माध्यम से प्रश्न पत्रों के उत्तर उपलब्ध कराते हुए गिरफ्तार किया गया। उनके साथ दो डॉक्टर भी थी।

पूछताछ में अभियुक्त अजीत ने बताया कि उसकी तीन लैब हैं जिनके माध्यम से वह अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में भी परिक्षार्थियों को नकल कराने के एवज में मोटी धनराशि लेता है।

ये हुए गिरफ्तार –

अजीत (44) पुत्र स्वर्गीय सतवीर सिंह निवासी, मकान नंबर 540 सेक्टर आठ जिला जींद हरियाणा।

– अमन शिवाच(24)  पुत्र अर्जुन निवासी गली नंबर 18/10 विकास कॉलोनी रोहतक हरियाणा।
– वैभव कश्यप(23) पुत्र संजीव कश्यप, निवासी 260 अंबिका एनक्लेव सनौर पटियाला पंजाब।
– विजुल गौरा (31) पुत्र गोविंद लाल निवासी 2/5 पटेल नगर जिला हिसार हरियाणा।
– जयंत ( 22)पुत्र प्रकाश निवासी मकान नंबर 423 डिफेंस कॉलोनी जिला हिसार हरियाणा।