‌पीएचडी धांधली और एचओडी घोटाले की जांच को लेकर छात्रों का हंगामा, विवि की छत पर चढ़े

33
खबर शेयर करें -

उत्तराखंड में छात्रों ने मांगों को लेकर फिर हंगामा किया है। उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय में कथित पीएचडी धांधली और एचओडी घोटाले की जांच समेत अन्य मांगों को लेकर छात्र शुक्रवार को लाइब्रेरी की छत पर चढ़ गए। हंगामा बढ़ने पर प्रबंधन ने पुलिस बुला ली। बाद में पुलिस ने मौके पर पहुंचकर छात्रों को समझाया और उनकी रजिस्ट्रार से फोन पर बात कराई, जिसके बाद प्रदर्शनकारी छात्र शांत हुए और छत से नीचे उतरे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड से लापता इंजीनियर का सात दिन बाद भी सुराग नहीं, इंजीनियरों में आक्रोश

छात्र नेताओं का आरोप है कि उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय में सत्र 2023-24 में पीएचडी की प्रवेश परीक्षा हुई थी, जिसमें काफी अनियमितताएं हुई हैं। उनका आरोप है कि पीएचडी की प्रवेश परीक्षा में एसटी आरक्षण को ध्यान नहीं रखा गया है. एसटी अभ्यर्थियों के साथ अन्याय किया गया है। आरोप है कि विश्वविद्यालय के परंपरागत छात्रों के लिए 60 प्रतिशत और परिसर छात्रों के लिए 20 प्रतिशत वरीयता के नियम का पालन नहीं किया गया, जिसकी छात्रों ने कई बार शिकायत की। शिकायत के बाद 20 सितंबर 2023 को कुलपति के अनुमोदन पर विश्वविद्यालय प्रशासन ने पीएचडी प्रवेश पर तत्काल रोक लगाई और आरोपी की जांच के लिए शिकायत निवारण कमेटी का गठन किया है।

यह भी पढ़ें 👉  जंगल में लगी भीषण आग, चपेट में आने से युवक की दर्दनाक मौत

प्रदर्शनकारी छात्रों का कहना है कि वो इन तमाम मुद्दों पर पिछले 9 महीने से आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन कोई भी समाधान नहीं किया गया। जिससे तंग आकर आज दो मई को छात्र विश्वविद्यालय के पुस्तकालय की छत पर चढ़ गए और प्रदर्शन किया। हालांकि मौके पर पहुंची पुलिस ने छात्रों की रजिस्ट्रार से वार्ता कराकर उन्हें शांत किया और नीचे उतारा। इस संबंध में छात्रों की रजिस्ट्रार से मुलाकात भी होगी। छात्रों की तरफ से साफ किया गया है कि यदि उनकी मांगों पर विचार नहीं किया गया तो वो दोबारा आंदोलन करने को मजबूर होंगे।