भारत में ब्रिटिश पीएम की सास बनीं राज्यसभा की सदस्य, प्रधानमंत्री मोदी ने कह दी यह बात…

179
खबर शेयर करें -

 

newsjunction24.com
New dehli ( नई दिल्ली) राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्म ने राज्यभा के लिए बड़ी शख्सियत को नामित किया है। इंफोसिस के संस्थापक नारायणमूर्ति की पत्नी और सामाजिक कार्यों के लिए प्रसिद्ध सुधा मूर्ति को राष्ट्रपति की ओर से राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया है। ब्रिटिश प्रधानमंत्री की सास के राज्यसभा मनोनयन पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बधाई दी है।

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, “मुझे खुशी है कि भारत के राष्ट्रपति ने सुधा मूर्ति को राज्यसभा के लिए नामित किया है। सामाजिक कार्य, परोपकार और शिक्षा सहित विविध क्षेत्रों में सुधा जी का योगदान असीम और प्रेरणादायक रहा है। राज्यसभा में उनकी उपस्थिति हमारी ‘नारी शक्ति’ का एक शक्तिशाली प्रमाण है, जो हमारे राष्ट्र की नियति को आकार देने में महिलाओं की ताकत और क्षमता का उदाहरण है। उनके फलदायी संसदीय कार्यकाल की कामना करता हूं।’

महिला दिवस पर राज्यसभा में मनोनयन दोहरी खुशी: सुधा मूर्ति

परोपकार के लिए प्रसिद्ध लेखिका सुधा मूर्ति ने शुक्रवार को कहा कि राज्यसभा के लिए उनके नामांकन की घोषणा महिला दिवस के दिन होना उनके लिए दोहरी खुशी की बात है। इन्फोसिस फाउंडेशन की पूर्व चेयरपर्सन ने कहा कि उन्होंने कभी इस पद की मांग नहीं की और उन्हें इस बात का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं है कि सरकार ने उन्हें उम्मीदवार क्यों बनाया है। उन्होंने कहा, “यह जानकारी महिला दिवस सामने आई और यह दोहरी खुशी की बात है। मैं बहुत ख़ुश हूँ। मैं अपने प्रधानमंत्री का आभारी हूं।” मूर्ति फिलहाल थाईलैंड की यात्रा पर हैं।

आप भी जानिए कौन हैं सुधा मूर्ति

सुधा मूर्ति एक प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता और लेखिका हैं। अभी तक सुधा मूर्ति ने आठ उपन्यास लिखे हैं। वह भारत की सबसे बड़ी आटो निर्माता इंजीनियरिंग और लोकोमोटिव कंपनी टेल्को में काम करने वाली पहली महिला इंजीनियर भी हैं।

बेटी है ब्रिटिश पीएम की पत्नी

सुधा मूर्ति देश दुनिया के जाने माने इंफोसिस फाउंडेशन के संस्थापक नारायण मूर्ति की पत्नी हैं। सुधा मूर्ति के दो बच्चे हैं, बेटी अक्षता मूर्ति और बेटा रोहन मूर्ति। अक्षता नारायण मूर्ति ब्रिटेन में रहने वाली भारतीय फैशन डिजाइनर हैं और यूके के प्रधानमंत्री की पत्नी हैं। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक सुधा मूर्ति के दामाद हैं। रोहन मूर्ति, मूर्ति क्लासिकल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया के साथ ही एक डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन स्टार्ट अप सोरोको के संस्थापक हैं।