धामी ने अफसरों से मांगा उत्तराखंड की सड़कों का STATUS, अफसरों को दिए ये निर्देश

205
खबर शेयर करें -

न्यूज जंक्शन 24, देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने निर्देश दिए कि संबंधित अधिकारी एक सप्ताह के भीतर प्रदेश की गड्ढा मुक्त सड़कों की मौजूदा स्थिति उपलब्ध करवाएं। उन्होंने कहा कि संबंधित विभागों द्वारा प्रदेश की सड़कों को गड्ढा मुक्त बनाने के लिए अभी तक कितना कार्य किया गया, कितनी सड़कों की मरम्मत की गई, कितना कार्य अवशेष है, समस्त जानकारी अविलंब एक सप्ताह के भीतर उन्हें दें।

सुगम यात्रा जनता का अधिकारी

धामी ने कहा कि सुगम और सुरक्षित यात्रा का जनता अधिकार है। जनता की सुविधाओं का ध्यान रखना राज्य सरकार की सबसे बड़ी प्राथमिकता है। उन्होंने सख्त निर्देश दिए कि सभी सड़कों की मरम्मत, अनुरक्षण तथा गड्ढा मुक्ति का कार्य संबंधित विभागों द्वारा किसी भी स्थिति में शीघ्र पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि सड़कों की मरम्मत तथा गड्ढा मुक्ति के कार्यों में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए। सड़क मरम्मत के कार्यों में किसी भी प्रकार की शिकायत नहीं मिलनी चाहिए।

यह भी पढ़ें 👉  पुलिस को मिली सफलता- चोरी के वाहनों के साथ शातिर गिरफ्तार

इन सड़कों की जानीं स्थिति

धामी ने बैठक में हरिद्वार विशिष्ट कॉरिडोर, पिथौरागढ़ एयरपोर्ट के संचालन, मानसखंड कॉरिडोर, रामनगर – रानीखेत सड़क मार्ग, मां पूर्णागिरि धाम में संचालित विकास कार्यों की अद्यतन जानकारी संबंधित अधिकारियों से ली। उन्होंने मानसखंड कॉरिडोर तथा हरिद्वार विशिष्ट कॉरिडोर के विकास की परियोजनाओं को जल्द लागू करने के निर्देश दिए। बैठक में जानकारी दी गई कि मानसखंड कॉरिडोर के अंतर्गत कुमाऊं के गोलजयू देवता, पाताल भुवनेश्वर, कोट भ्रामरी, कैंची धाम सहित 29 मंदिरों को चिन्हित कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  मतदान को लेकर वॉकथॉन, मुख्य चुनाव आयुक्त ने दिखाई हरी झंडी

मां पूर्णागिरी धाम का विकास कार्य जल्द करें

मानसखंड कॉरिडोर के अंतर्गत पर्यटकों तथा तीर्थ यात्रियों के लिए सड़क कनेक्टिविटी, रोड कनेक्टिविटी तथा रोपवे सिस्टम को मजबूत किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने मां पूर्णागिरि धाम में संचालित विकास कार्यों त्वरित करने के भी निर्देश दिए।उन्होंने कहा कि जनभावनाओं को ध्यान में रखते हुए यहां श्रद्धालुओं के लिए सभी आवश्यक सुविधाएं जल्द से जल्द सुदृढ़ किया जाना जरूरी है। बैठक में मुख्य सचिव डा. एस एस संधू, पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार, अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।