अभिनेत्री एवं पूर्व सांसद जयाप्रदा फरार, पीछे लगी पुलिस की टीमें… पढ़िए क्यों

260
खबर शेयर करें -

 

newsjunction24.com
रामपुर (rampur) : फिल्मी पर्दे से राजनीति के मैदान में उतरीं अभिनेत्री जयाप्रदा बुरी फंस गई हैं। सांसद रहते आचार संहिता उल्लंघन के मामले में फंसी जयाप्रदा को पेश होने के लिए कोर्ट लगातार तलब कर रहा है, लेकिन वह हाजिर नहीं हुईं। हाजिर नहीं होने पर पूर्व सांसद जया प्रदा को कोर्ट ने फरार घोषित कर दिया है। कोर्ट के आदेश पर उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस अफसर तलाश में जुट गए हैं। मामले की अगली सुनवाई छह मार्च को होगी।

रामपुर की पूर्व सांसद जयाप्रदा को एमपी एमएलए कोर्ट ने बड़ा झटका दिया है। लगातार तलब करने के बाद भी हाजिर नहीं होने पर आचार संहिता उल्लंघन के दो मामलों में फरार घोषित करते हुए उनकी गिरफ्तारी के आदेश दिए हैं। टीम छह मार्च को पूर्व सांसद को कोर्ट में हर हाल में पेश करेगी।

यह भी पढ़ें 👉  महिला से दुराचार कर बना ली वीडियो, फिर ब्लैकमेल कर मजबूर करता रहा आरोपी

2019 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान पूर्व सांसद जयाप्रदा के खिलाफ केमरी और स्वार थाने में आचार संहिता के उल्लंघन के दो मामले दर्ज हुए थे। इनमें विवेचना के बाद पुलिस ने चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की थी। स्वार में दर्ज एक मामले में गवाही पूरी हो चुकी है, जबकि केमरी के मामले गवाही होना अभी बाकी है।

इस मामले में अब कोर्ट में जयाप्रदा के बयान दर्ज होने थे। लेकिन जयाप्रदा 16 अक्तूबर 2023 से कोर्ट में हाजिर नहीं हो रही हैं। इसके बाद कोर्ट की ओर से सात बार गैर जमानती वारंट जारी किए। एसपी को भी पत्र लिखकर उनकी गिरफ्तारी सुनिश्चित करने को कहा था।

यह भी पढ़ें 👉  कारोबारी के घर सशस्त्र बदमाशों का धावा, लाखों की नगदी और सोना लूटा

कोर्ट ने जमानतियों के खिलाफ भी पत्रावली खोली थी लेकिन पूर्व सांसद कोर्ट में हाजिर नहीं हुई। मंगलवार को एमपी एमएलए मजिस्ट्रेट ट्रायल कोर्ट ने पूर्व सांसद जयाप्रदा को कोर्ट में हाजिर नहीं होने पर नाराजगी जताते हुए उनको फरार घोषित कर दिया।

साथ ही उनके खिलाफ फिर से गैर जमानती वारंट जारी किए है। कोर्ट ने एसपी को पत्र लिखकर आदेश दिया है कि पूर्व सांसद की गिरफ्तारी के लिए सीओ स्तर के अफसर के नेतृत्व में टीम बनाकर छह मार्च को कोर्ट में पेश करें।

वरिष्ठ अभियोजन अधिकारी अमरनाथ तिवारी ने बताया कि कोर्ट ने पूर्व सांसद जयाप्रदा को फरार घोषित कर दिया है। उनके खिलाफ धारा 82 सीआरपीसी के तहत कार्रवाई की है। एसपी को पत्र लिखकर आदेश दिया है कि पूर्व सांसद को गिरफ्तार कर छह मार्च को कोर्ट में पेश किया जाए।