रेल ट्रैक पर पतंग उड़ाई तो अब रेलवे लेगा ये एक्शन, जानिए वजह

163
खबर शेयर करें -

न्यूज जंक्शन 24, नई दिल्ली।

चाइनीज मांझा ओएचई लाइन को ठप करके गाड़ियों की रफ्तार में बाधा बनने लगा है। इसको देखते हुए रेलवे ने पतंगबाजों पर सख्त से सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। यदि रेल ट्रैक नारे पतंगबाजी करते कोई मिले, तो रेल एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाएगा। बरेली जंक्शन आरपीएफ ने चेकिंग शुरू कर दी है।
रेल अधिकारियों का कहना है, लखनऊ डिवीजन में लॉकडाउन के चलते पतंग कई बार गाड़ियों के संचालन में बाधा बनी है। इसको देखते हुए सभी डिवीजन में चेकिंग अभियान चलाने को निर्देश दिए हैं। बताते हैं, चाइनीस माझा में लोहे का बुरादा होता है। जब माझा ओएचई लाइन के दोनों तारों पर गिरता है,तो लाइन ट्रिप हो जाती है। जिससे गाड़ियों का संचालन रुक जाता है। लॉकडाउन में कई ऐसी घटनाएं हुईं। अचानक लाइन ट्रिप के पीछे चाइनीज मांझा था। माल गाड़ियां रुकी तो अधिकारियों ने जांच कराई। इसके बाद सभी डिवीजन को रेलवे बोर्ड से निर्देश दिए गए कि चाइनीज माझा के मामले में रेलवे को भी कार्रवाई करनी चाहिए। आबादी वाले इलाकों में होकर जो ट्रेन गुजरता है, वहां विशेष चेकिंग कराई जाए। यदि कोई पतंग बाज सड़क के किनारे मिलता है, तो उसके खिलाफ रेल एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाए। हालांकि कई साल पहले सिटी श्मशान भूमि और मढ़ीनाथ रेल क्रासिंग के बीच मेएक घटना ऐसी घटी थी। जिसमें अच्छी लाइन पर लटक रहे चाइनीज मांझा से आरपीएफ के जवान को करंट लगा था। राइफल की नाल माझा टच हो गया। करंट लगने से जवान रेल ट्रैक पर गिरा।जिसके सिर पर चोट आई थी। एनईआर का जवान था।


आरपीएफ का कहना है, पतंगबाजों के खिलाफ चेकिंग को निर्देश दिए गए हैं। ट्रैक के किनारे कोई पतंगबाज दिखाई देता है, पहली बार में हिदायत दी जाएगी। दोबारा दिखाई दे तो उसे उठाकर हवालात में बंद कर दिया जाएगा।