नीट एग्जाम देने जा रहे हों तो पढ़ लें ये नियम, कोरोना काल में हुआ है बदलाव

175
खबर शेयर करें -


न्यूज जंक्शन 24, नई दिल्ली।
नेशनल एलिजिबिलिटी कम इंट्रेंस टेस्ट(नीट) 13 सितंबर को होगा। एनटीए ने सभी केंद्रों पर आईसोलेशन रूम भी बनाए हैं। यदि किसी छात्र का बॉडी टेंपरेचर 99.4 डिग्री फॉरनेहाइट से ज्यादा निकला तो उसे आइसोलेशन रूम में परीक्षा दिलाई जाएगी।

कोविड-19 के चलते परीक्षा केन्द्रों पर कुछ बदलाव भी किए गए हैं। कोऑर्डिनेटर ने बताया कि रविवार को होने वाली नीट की परीक्षा के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। परीक्षार्थियों के एडमिट कार्ड पर आने का समय लिखा हुआ है। चार चरणों में सभी परीक्षार्थियों को परीक्षा केन्द्र के अंदर एंट्री दी जाएगी। पहला चरण 11 बजे शुरू होगा। अंतिम चरण 1:30 बजे समाप्त होगा। इसके बाद किसी भी परीक्षार्थी को परीक्षा केंद्र के अंदर एंट्री नहीं दी जाएगी। दोपहर दो बजे से पांच बजे के बीच परीक्षा संपन्न कराई जाएगी।
परीक्षा छूटने के बाद भी चार चरणों में ही परीक्षार्थी केंद्र के बाहर जा सकेंगे। परीक्षार्थी अपने साथ मास्क, 50 एमएल सेनेटाइजर, पानी की बोतल, दस्ताने ला सकते हैं। परीक्षार्थियों को परीक्षा कक्ष के अंदर भी एक मास्क स्कूल की तरफ से दिया जाएगा। परीक्षार्थियों के वाहन स्कूल से 100 फीट पहले रोक दिए जाएंगे।

यह भी पढ़ें 👉  आओ अपने गांव से जुड़ें अभियान के तहत इन्हें मिली छात्रवृत्ति

गेट पर नहीं चस्पा होंगे कक्ष के क्रमांक

कोऑर्डिनेटर ने बताया कि कोविड-19 के चलते इस बार नीट की परीक्षा में गेट के बाहर परीक्षा कक्ष की सूची चस्पा नहीं की जाएगी। केंद्र के अंदर एक रजिस्ट्रेशन काउंटर बनाया जाएगा। उस पर जाकर ही परीक्षार्थी को अपना कक्ष पूछना होगा। यह व्यवस्था भीड़ से बचने के लिए दी गई है।

यह भी पढ़ें 👉  आओ अपने गांव से जुड़ें अभियान के तहत इन्हें मिली छात्रवृत्ति

प्रवेश के लिए लाने होंगे ये कागज

केंद्र पर प्रवेश के लिए अभ्यर्थी को अपना प्रवेश पत्र, सरकारी आईडी प्रूफ दिखाना होगा। दिव्यांग छात्र को विकलांगता प्रमाण पत्र दिखाना होगा। छात्रों को इंविजिलेटर के आदेश पर ही प्रवेश करना होगा और बाहर निकलना होगा।