बागेश्वर के बेटे ने देश की रक्षा के लिए खाई आतंकवादियों की गोली, सरयू तट पर दी अंतिम विदाई।

147
खबर शेयर करें -

न्यूज जंक्शन 24, बागेश्वर ।

देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले बागेश्वर के बेटे को आज उसके परिजनों और क्षेत्रवासियों ने अंतिम विदाई दी। राजकीय सम्मान के साथ सरयू-गोमती तट पर जवान का अंतिम संस्कार कर दिया गया। बागेश्वर का लाल बीएसएफ के बाड़मेर में तैनात था, आतंकबादियों की गोली से उसकी मौत हो गई थी। उनका पार्थिव शरीर मंगलवार को उनके गांव पहुंचा।
दफौट, नयाल गांव के प्रदीप दफौटी पुत्र मोहन सिंह दफौटी भारत तिब्बत पुलिस फोर्स में राजस्थान के बाड़मेर में तैनात थे। पांच सितंबर को वह ड्यूटी पर थे और आतंबादियों की गोली उनके गले में लगी थी। मंगलवार को उनका पार्थिक शरीर पैतृक गांव पहुंचा। जहां परिजनों और ग्रामीणों ने जवान के अंतिम दर्शन किए। जवान के दो बेटियां और एक बेटा है। शव लेकर आए बीएसएफ के एसआइ अनूप सिंह ने बताया कि जवान को गोली लगी थी।
उपजिलाधिकारी राकेश चंद्र तिवारी ने बताया कि जवान को पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। पुलिस उपाधीक्षक महेश चंद्र जोशी के नेतृत्व पुलिस टीम ने जवान को अंतिम सलामी में शस्त्र उल्टे किए। उनकी चिता को उनके भाई रमेश सिंह व निर्मल सिंह ने मुखाग्नि दी। इस मौके पर ग्राम प्रधान संतोष दफौटी आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लगाई लंबी छलांग और राष्ट्रीय स्तर पर पाया यह मुकाम