तेंदुआ खा गया सात साल की बच्ची का पैर, सिर और आधा धड़, देखिए क्या कर डाला हाल

न्यूज जंक्शन 24, बरेली।

शीशगढ़ में 9 घण्टे बाद मंगलवार सुबह गन्ने के खेत में सात वर्षीय बच्ची का क्षत-विछत शव बरामद हो गया।बच्ची का सिर और धड़ से नीचे का भाग अलग था। पैर की अंगुलियां भी तेंदुए ने चबा ली थी। यह सब देख परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। बता दें कि सोमवार देर शाम तेंदुआ बच्ची को उठाकर जंगल में खींच ले गया था। वन टीम ने देर रात तक बच्ची की खोज में सर्च ऑपरेशन चलाया लेकिन शव बरामद नहीं हुआ। रात लगभग 1 बजे खोजबीन बंद कर दी थी। सुबह 5 बजे से फिर अभियान चला। आधे घण्टे में ही वन विभाग को मिली सफलता ।

सोमवार शाम लगभग 8 बजे थाना शीशगढ़ की चौकी बंजरिया क्षेत्र के गांव बुझिया निवासी बब्लू राजपूत की सात वर्षीय पुत्री उपासना जो कि गांव के प्राइमरी स्कूल की कक्षा 4 की छात्रा थी उसे तेंदुआ अंधेरे में दुकान पर जाते वक्त रास्ते से उठा ले गया था। काफी देर तक बच्ची जब दुकान से घर नहीं पहुंची तब परिवार के लोगों ने बच्ची की खोजबीन शुरू की थी और रास्ते में पड़े खून को देखकर परिजनों ने ग्रामीणों को बच्ची की गायब होने की जानकारी दी थी। ग्रामीणों व परिजनों ने बच्ची के खून के साथ मौके पर तेंदुए के पद चिन्हों को देखकर अंदाजा लगाया था कि बच्ची को तेंदुआ उठाकर जंगल में ले गया।

परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल।

घटना के बाद ग्रामीणों ने पुलिस व वन विभाग को घटना की जानकारी से रात में ही अवगत कराया था। सूचना के बाद वन विभाग की टीम ने ग्रामीणों के साथ ट्रैक्टर, टार्च व मशाल जलाकर बच्ची की खोज में रात्रि 1 बजे तक सर्च ऑपरेशन चलाया परंतु कोई सफलता नहीं मिली थी।

मंगलवार सुबह 5 बजे डिप्टी रेन्जर प्रदीप कुमार, वन क्षेत्राधिकारी रवि सिंह की टीम ने बच्ची की खोज में दोबारा सर्च ऑपरेशन शुरू किया था जिसमें टीम को आधे घण्टे में ही गांव से 500 मीटर दूर बलकार सिंह पुत्र प्यारा सिंह के गन्ने के खेत में बच्ची का क्षत-विछत शव मिला। सिर, धड़, पैर आदि अंग अलग पड़े मिले। बच्ची दोनों पैरों में चप्पलें पहनी हुई थी।

डिप्टी रेन्जर प्रदीप कुमार ने बताया कि हमारी टीम रात से ही मौके पर है। अभी वन विभाग की अन्य टीमें भी पहुंच रही हैं। उसके बाद तेंदुए को पकड़ने के लिए पिजड़े लगाए जायेंगे ।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*