एसबीआई के खाताधारक हैं तो हो जाएं अलर्ट, एक अक्टूबर से पड़ने जा रहे हैं यह चार्जेज। जान लीजिए नियम

न्यूज जंक्शन 24, नई दिल्ली।

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) अपने खाताधारकों को झटका देने जा रहा है। अब इस बैंक के खाते से मनमाने तरीके से पैसे निकालने और जमा करने रोक लग जायेगी। बैंक ने तय किया है अब पैसे जमा करने से लेकर निकालने तक पर शुल्क लगाएगा। तय लिमिट के बाद अगर किसी ने बैंक में अपने खाते में पैसा जमा किया या निकाला तो यह शुल्क देना होगा। यही नहीं एसबीआई अपने ग्राहकों पर पेनाल्टी भी लगाने का फैसला किया है। यह पेनाल्टी मामूली सी चूकों पर वसूली जाएगी। ऐसे में अगर आपका भी बैंक खाता एसबीआई में तो अभी से सावधान हो जाएं। एसबीआई 1 अक्टूबर 2020 से यह नई पेनाल्टी लागू करने जा रहा है।
एसबीआई 1 अक्टूबर से पैसे जमा करने पर पेनाल्टी लागू करने जा रहा है। बैंक ने कहा है कि बचत खाते में महीने में केवल 3 बार ही पैसे फ्री में जमा करने की छूट होगी। अगर चौथी बार आपने पैसे जमा किए तो आप पर चार्ज लगाया जाएगा। यह चार्ज भी 50 रुपये प्रति ट्रांजेक्शन यानी हर जमा पर लगाया जाएगा। इसके अलावा इस 50 रुपये पर आपको जीएसटी भी देना होगा।
अगर आपके बैंक खाते में औसत मंथली बैलेंस 25000 रुपये तक है तो आप केवल 2 बार ही फ्री में खाते से पैसे निकाल सकते हैं। वहीं अगर आपके एसबीआई बैक खाते में औसत मंथली बैलेंस 25000 रुपये से लेकर 50000 रुपये तक है तो आप महीने में 10 बार खाते से फ्री में पैसा निकाल सकते हैं। वहीं 50000 रुपये से लेकर 1 लाख रुपये तक एवरेज बैलेंस होने पर आप 15 बार फ्री में पैसा निकाल पाएंगे। इसके अलावा अगर आपके एसबीआई बैंक खाते में 1 लाख रुपये से ज्यादा का एवरेज बैलेंस है तो आप चाहे जितनी बार चाहें पैसे निकाल सकते है।
एसबीआई के नए नियम के मुताबिक अगर 1 अक्टूबर 2020 के बाद किसी ने ऊपर बताई सीमा से ज्यादा बार खाते से पैसा निकाला तो 50 रुपये का चार्ज लगाया जाएगा। वहीं इस चार्ज पर जीएसटी भी आपको ही देना होगा।
एसबीआई ने अपनी शहरी क्षेत्र की बैंक शाखाओं के लिए 3000 रुपये एवरेज मंथली बैलेंस की राशि तय की है। लेकिन अगर आपका एसबीआई में शहरी क्षेत्र में बैंक खाता है और आपका मिनिमम मंथली बैलेंस आधे से कम यानी 1500 रुपये से नीचे जाता है तो आपको 10 रुपये पेनाल्टी और साथ में जीएसटी देना होगा। वहीं अगर आपका मिनिमम मंथली बैलेंस 50 फीसदी से 75 फीसदी के बीच रहता है तो आपको 12 रुपये पेनाल्टी के अलावा जीएसटी देना होगा। इसके अलावा अगर आपका मिनिमम मंथली बैलेंस 75 फीसदी के नीचे चला जाता है तो आपको 15 रुपये पेनाल्टी के साथ जीएसटी देना होगा।
अगर आपका एसबीआई बैंक अकाउंट किसी ऐसी शाखा में है, जो ग्रामीण क्षेत्र में आती है, तो इस पर पेनाल्टी वसूली जाएगी। ऐसी शाखाओं में जमाकर्ता पर 1000 रुपये मिनिमम मंथली बैलेंस रखने की शर्त रहेगी। अगर आपके एसबीआई बैंक खाते में इतना मिनिमम मंथली बैलेंस नहीं रहता है तो आप पर पेनाल्टी लगाई जाएगी। अगर आपके खाते में मिनिमम मंथली बैलेंस 50 फीसदी तक कम रहता है तो आप पर 5 रुपये की पेनाल्टी लगाई जाएगी। इस पर जीएसटी अलग से देना होगा। वहीं अगर यह मिनिमम मंथली बैलेंस 50 फीसदी से बढ़कर 75 फीसदी तक कम हो जाता है तो आप से 7.5 रुपये की पेनाल्टी ली जाएगी। इस जीएसटी अलग से देना होगा। वहीं अगर मिनिमम मंथली बैलेंस 75 फीसदी से भी नीचे चला जाता है तो आपको 10 रुपये पेनाल्टी और जीएसटी देना होगा।

फंड ट्रांसफर पर देना होगा चार्ज
एसबीआई ने बताया है कि वह नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर यानी निफ्ट (एनईएफटी) पर भी चार्ज वसूलेगा। हालांकि इसका ऑनलाइन इस्तेमाल पूरी तरह से फ्री रहेगा। लेकिन अगर आप अपनी एसबीआई की शाखा में जाकर इसका इस्तेमाल करते हैं तो आप पर चार्ज लगया जाएगा। यह निफ्ट ट्रांसफर चार्ज इस प्रकार होगा।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*