नैनीताल के शुभम की उत्तरकाशी में मिली लाश, पांच दिन पहले द्रौपदी का डांडा में आए एवलांच की चपेट में आया था

249
खबर शेयर करें -

न्यूज जंक्शन 24, नैनीताल। उत्तरकाशी के द्रौपदी का डांडा चोटी पर पांच दिन पहले हुए हिमस्खलन में लापता हुए नैनीताल के तल्ला कृष्णापुर निवासी निम के प्रशिक्षु शुभम सांगूड़ी का शव मिला है। इससे परिवार पर दुःखों का पहाड़ टूट पड़ा है। शुभम का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव अल्मोड़ा जिले के लमगड़ा से करीब दस किमी दूर सांगड गांव के स्थानीय श्मशान घाट पर होगा।

शुभम के पिता दीवान सिंह टैक्सी संचालक हैं। माता का दो साल पहले बीमारी से निधन हो गया था, जबकि बहन रुद्रपुर में जॉब करती है। शुभम 10 सितंबर को नैनीताल से उत्तरकाशी गया था और वहीं 14 को नेहरू पर्वतारोहण संस्थान में गया था। एमबीए पास शुभम पहले भी द्राैपदी का डांडा में गए ट्रेकिंग दलों में शामिल था। स्वजनों के अनुसार वह पर्वतारोहण में ही कॅरियर बनाना चाहता था।

यह भी पढ़ें 👉  किसान आंदोलन का ट्रेनों पर पड़ा प्रभाव, उत्तराखंड से इतनी ट्रेनें की गई रद्द

मगर पिछले दिनों वह एवलांच में लापता हो गया था। इसके बाद से ही बेटे के लापता होने के बाद से ही पिता परेशान हो गए थे। इसके बाद वह और अन्य स्वजन तत्काल नैनीताल से उत्तरकाशी रवाना हो गए थे। अब शुभम का शव मिलने से परिवार में कोहराम मच गया है। शुभम का शव आज अल्मोड़ा लाया जाएगा।