चप्पलों से पिटवाया, फिर जूतों की माला पहना गांव में घुमाया! गांव की पंचायत ने सुनाया गजब फरमान

न्यूज जंक्शन 24, मीरगंज (बरेली)।

तहसील क्षेत्र के एक गांव में सोमवार को पंचायत ने तुगलकी फरमान जारी कर युवक का मुंह काला कर गांव में घुमाने की सजा दी। इससे पहले युवती से पांच चप्पलें भी युवक के मरवाईं। चर्चा है कि उसे जूतों की माला पहनाकर गांव में भी घुमाया गया। युवक का कुसूर ये था कि दूसरी बिरादरी की युवती के बुलाने पर वह गन्ने के खेत में उससे मिलने चला गया था। इस दौरान युवती की दादी ने उसे देख लिया।
बताया जा रहा है कि युवक अपने दोस्त की बाइक मांगकर ले गया था। खेत के बाहर बाइक खड़ी कर दोनों गन्ने के खेत में घुस गए। युवती की दादी ने उन्हें देख लिया। दादी ने दोनों को वहीं पर पीटा। युवक की बाइक भी तोड़ दी। इसी बीच दोनों दादी को चकमा देकर वहां से भाग गए। शोर सुनकर ग्रामीण भी पहुंच गए। दोनों की तलाश की लेकिन नहीं मिले। ग्रामीणों की सूचना पर डायल 100 पुलिस भी मौके पर पहुंची। पुलिस ने मौके से क्षतिग्रस्त बाइक बरामद की। घटना के आधे घंटे बाद युवक व युवती अपने घर पहुंच गए। युवती के पिता बाहर काम करते हैं। परिजनों की सूचना पर वे घर लौटे। मंगलवार सुबह 9 बजे मामले को लेकर पंचायत हुई। पंचायत में युवक-युवती को बुलाकर उनका पक्ष सुना। जिसके बाद पंचायत ने युवक को तुगलकी सजा सुनाई।

ग्रामीणों के एक गुट ने किया सजा का विरोध
युवक और उसके परिजनों ने तालिबानी सजा देने वालों की शिकायत अपने क्षेत्र की पुलिस से नहीं की। इस मामले की मंगलवार को दिन भर गांव में चर्चा होती रही। ग्रामीणों ने नाम उजागर न करने की शर्त पर बताया कि पंचायत में युवक को चप्पलों से पिटवाने के बाद मुंह काला कर गांव में घुमाते देखकर उन्हें बहुत बुरा लगा। ऐसा नहीं होना चाहिए। गलती दोनों की थी। सजा दोनों को मिलनी चाहिए थी।

आर्थिक दंड भी लगाया गया
पंचायत में शामिल लोगों ने युवक को चप्पलों से पिटवाने के बाद उस पर आर्थिक दंड भी लगाया जिसे युवक ने भरा। चर्चा है युवक का युवती से तीन सालों से सम्पर्क है। युवक को युवती ने ही फोन करके जंगल में बुलाया था। युवक पढ़ाई के साथ गांव में काम भी करता है। दोनों अलग-अलग जाति के हैं।

चौकी पर ले गई थी पुलिस
शाही। ग्रामीणों की सूचना पर सोमवार को डायल 100 पुलिस युवक को पकड़ कर चौकी पर ले गई थी। किसी की तहरीर न होने पर चौकी से उसे घर भेज दिया। चौकी प्रभारी ने बताया कि मुझे घटना की जानकारी नहीं है। डायल 100 पुलिस के किसी युवक को चौकी लाना मेरे संज्ञान में नहीं है और न ही किसी ने ऐसी किसी घटना के संबंध में पुलिस को तहरीर दी है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*