दिव्यांग बेटियों का इलाज कराने के लिए एक मजबूर पिता ने अपनी ढाई साल की मासूम को बेच दिया, जानिए मामला

179
खबर शेयर करें -

एनजेआर, नई दिल्ली। एक मजबूर पिता ने अपनी ढाई साल की मासूम बच्ची का 40 हजार रुपये में बेच दिया लेकिन जिस महिला को उसने बच्ची बेची थी उसने ज्यादा कीमत मिलने पर एक निसंतान दम्पति को बेच दिया। यह बात जब पिता को पता चली तो उसने महिला आयोग को बता दी। पुलिस ने बच्ची को बरामद कर बच्ची के पिता, दो महिला व एक पुरुष को हिरासत में ले लिया। अन्य दो महिलाओं से पूछताछ की जा रही है।

उत्तरी जिले की डीसीपी मोनिका भारद्वाज ने बताया कि सूचना मिलते ही पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी। बुराड़ी इलाके में रहने वाले ग्रामीण सेवा चालक अमनदीप की दो बेटियां दिव्यांग हैं, जिनके इलाज के लिए उसे रुपये की जरूरत थी। इसलिए उसने गत एक अगस्त को तीसरी बेटी को 40 हजार रुपये में जाफराबाद निवासी मनीषा को बेच दिया। इसी बीच उसे जानकारी मिली कि मनीषा ने उसकी बेटी को किसी और को बेच दिया है। तब वह दिल्ली महिला आयोग के पास पहुंचा। आयोग ने मामले की जानकारी बुराड़ी थाना पुलिस को दी।

पुलिस ने पहले मनीषा को पकड़ा। उसने बताया कि 6 अगस्त को उसने बच्ची को चावड़ी बाजार निवासी संजय मित्तल को बेच दिया है। इसके बाद महज सात घंटे के भीतर संजय के यहां से बच्ची को बरामद कर लिया। पुलिस ने पिता, पहली खरीदार मनीषा, संजय मित्तल और संजय की पड़ोसी मंजू को गिरफ्तार कर लिया है। दो अन्य महिलाओं से पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने मानव तस्करी की आशंका से इन्कार किया है।