बिहार में बीजेपी-जेडीयू का गठबंधन टूटा, नीतिश बोले- भाजपा ने हमें अपमानित किया, जदयू को खत्म करने की कोशिश की

390
खबर शेयर करें -

न्यूज जंक्शन 24, नई दिल्ली। बिहार में भाजपा और जदयू का गठबंधन टूट गया है। सीएम नीतीश शाम चार बजे राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात करेंगे। सूत्रों की मानें तो बिहार में नई सरकार का शपथ ग्रहण कल ही होगा। आज नीतीश कुमार राज्यपाल से मिलकर विधायकों के समर्थन की चिट्ठी सौंपेंगे। वहीं, महागठबंधन की बैठक में नीतीश कुमार को समर्थन देने का फैसला हो गया है। कांग्रेस और माले ने अपना अपना समर्थन पत्र सौंप दिया है। नीतीश कुमार सीएम बने रहेंगे जबकि तेजस्वी यादव डिप्टी सीएम बनेंगे।

वहीं इससे पहले जेडीयू की आज हुई बैठक में पार्टी के सभी विधायकों और सांसदों ने सीएम नीतीश कुमार के फैसले का समर्थन किया और कहा कि वे उनके साथ हैं। उन्होंने कहा कि वे हमेशा उनके साथ रहेंगे, जो कुछ भी वह तय करेंगे। जेडीयू की बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने हमेशा अपमानित करने का काम किया है। जेडीयू को षडयंत्र के तहत खत्म करने की कोशिश की गई।

कांग्रेस और वाम दलों ने मंगलवार को राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी यादव को अपने विधायकों की लिस्ट सौंपी। राबड़ी देवी के आवास पर हुई आरजेडी की बैठक में कांग्रेस और वाम दलों के विधायक भी मौजूद रहे। इस दौरान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा, “हम नीतीश कुमार का समर्थन करेंगे, अगर वह भाजपा छोड़ देते हैं और महागठबंधन की मदद से नई सरकार बनाते हैं। हमने अपनी पार्टी के सभी 19 विधायकों की लिस्ट राजद नेता तेजस्वी यादव को सौंप दी है।” भाकपा (माले) के विधायक महबूब आलम ने कहा, “हमने तेजस्वी यादव को अपने विधायकों की लिस्ट दे दी है। हम भाजपा को सत्ता से उखाड़ फेंकेंगे। हम नई सरकार के गठन के लिए नीतीश कुमार को समर्थन दे रहे हैं।”