Corona 3rd Wave : बच्चों के लिए न हों परेशान, एम्स ऋषिकेश में बन रहा 100 बेड का कोविड वार्ड

देहरादून। कोरोना की संभावित तीसरी लहर में बच्चों के ज्याद प्रभावित होने की खबर ने सभी माता-पिता को चिंता में डाल दिया है। इसे देखते हुए सरकार ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है, जिसके मद्​देनजर एम्स ऋषिकेश में बच्चों के लिए 100 बेड का उच्चस्तरीय चिकित्सासुविधा युक्त कोविड वार्ड बनाया जा रहा है। बच्चों के कोविड वार्ड में ऑक्सीजन बेड, आइसीयू बेड और वेंटिलेंटर और फाइव पैरा मॉनिटर जैसी तमाम सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी।

एम्स ऋषिकेश के निदेशक प्रो. रविकांत ने बताया कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर बच्चों के इलाज के लिए संस्थान में आवश्यक बेडों की संख्या, मेडिकल उपकरण और मैन पावर पर ध्यान क्रेंदित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि बच्चों में संक्रमण फैलने की दशा में एम्स में 100 बेड आरक्षित रखे गए जाएंगे। इसके लिए तैयार शुरू दी गई है। प्रो. रविकांत ने बताया कि बच्चों के कोविड वार्ड में 50 ऑक्सीजन और 50 आईसीयू की सुविधा वाले बेड शामिल हैं। इन बेडों के लिए वेटिंलेटर, मॉनिटर आदि जरूरी उपकरणों के इंतजाम कर लिए गए हैं।

55 चिकित्सक और 65 नर्सों की टीम भी रहेगी

एम्स के डीन हॉस्पिटल अफेयर्स प्रो. यूबी मिश्रा ने बताया कि संस्थान में बच्चों के उपचार के लिए 55 प्रशिक्षित रेजिडेंट्स चिकित्सक और 50 नर्सिंग स्टाफ की टीम उपलब्ध है। इसके अलावा एक महीने से कम उम्र के गंभीर नवजात बच्चों के इलाज के लिए एनआईसीयू के 15 प्रशिक्षित नर्सिंग ऑफिसर्स भी टीम में शामिल हैं।

एक साथ 150 बच्चों का हो सकेगा इलाज

प्रो. यूबी मिश्रा ने बताया कि एम्स की पीडियाट्रिक इंटेन्सिव केयर यूनिट (पीआईसीयू) में 30 और नियोनेटल इंटेन्सिव केयर यूनिट (एनआईसीयू) में 25 बेड की सुविधा पहले से है। जबकि 100 बेड का अतिरिक्त वार्ड भी तैयार किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कि बच्चों के कोरोना संक्रमित होने की दशा में एम्स में एक समय में 150 बच्चों का उपचार संभव हो सकेगा।

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*