मानवता की मिसाल : पूर्वांचल के श्रमिकों को लॉकडाउन में भोजन कराने का सतेंद्र ने उठाया बीड़ा

196
खबर शेयर करें -

वेद प्रकाश यादव, ऊधमसिंह नगर
मानव सेवा और अपनों की मदद करने का जज्बा हो तो दूरी मायने नहीं रखतीं। इसकी मिसाल पेश कर रहे हैं नॉर्थ ईस्ट में भाजपा के संगठन में विभिन्न पदों पर रह चुके सतेंद्र त्रिपाठी। उन्होंने उत्तराखंड से दूर रहकर भी यहां फंसे पूर्वांचल समाज के श्रमिकों की मदद करने का बीड़ा उठाया है। सतेंद्र ने प्रदेश मे पहला लॉकडाउन लागू होने के बाद ऊधमसिंह नगर के किच्छा निवासी प्रवल प्रताप चौहान उर्फ मंयक से वार्ता की। उनसे उत्तराखंड मे फंसे पूर्वांचल समाज के श्रमिकों की स्थिति के बारे में पता किया।


त्रिपाठी ने प्रवल का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि ऐसे श्रमिकों की सूची बनाओ जिन्हें तत्काल राहत सामग्री की जरूरत हो। इसके उपरांत प्रदेश के सात शहरों मे प्रवल प्रताप चौहान उर्फ मंयक के नेतृत्व मे सतेंद्र त्रिपाठी की टीम सक्रिय हो गई। 31 मार्च तक टीम ने पांच सौ से अधिक परिवारों की सूची वरिष्ठ भाजपा नेता सतेंद्र त्रिपाठी को उपलब्ध करा दी। इसके ठीक बाद ही वरिष्ठ भाजपा नेता सतेंद्र ने अपनी टीम को राहत सामग्री का इंतजाम करा दिया। इसके बाद से टीम अब तक लगभग पांच सौ से अधिक जरूरत मंद परिवारों को कई राहत राहत सामग्री उपलब्ध करा चुकी है। नॉर्थ ईस्ट में भाजपा के विभिन्न पदों पर रह चुके सतेंद्र ने बताया कि उत्तराखंड के साथ-साथ देश के कई क्षेत्रों मे फंसे जरूरतमंद श्रमिक परिवारों को हमारी टीम चिह्नित कर श्रमिकों को राहत सामग्री उपलब्ध करा रही है। उन्होंने कहा , मुसीबत की इस घड़ी में हम सभी की जिम्मेदारी है कि अपने-अपने स्तर से योगदान दें, ताकि देश को वैश्विक महामारी कोविड 19 से बचाया जा सके और कोरोना को हराकर भारत को जीताया जा सके।

यह भी पढ़ें 👉  निकाय चुनाव- प्रशासकों का कार्यकाल बढ़ाने की योजना, खोजा जा रहा ये रास्ता

सेनेटाइजर और मास्क भी करा रहे उपलब्ध : नॉर्थ ईस्ट में भाजपा के संगठन में विभिन्न पदों पर रह चुके सतेंद्र त्रिपाठी की टीम ने उत्तराखंड के काशीपुर, रुद्रपुर, सितारगंज, हल्द्वानी, गोलापार, किच्छा, हरिद्वार एवं कोटद्वार मे फंसे पांच सौ से अधिक पूर्वांचल समाज के जरूरतमंद परिवारों तक मदद पहुंचाई। इन श्रमिकों को सेनेटाइजर एवं मास्क भी उपलब्ध कराए, ताकि इन लोगों को कोरोना जैसे खतरनाक वायरस से बचाया जा सके।

यह भी पढ़ें 👉  पोती निकली दादी की हत्या की मास्टर माइंड, ब्लैकमेलिंग के चलते दोस्त ने घर में घुसकर की थी वारदात

सतेंद्र त्रिपाठी से वार्ता उपरांत हमारी टीम ने उत्तराखंड के सात शहरों मे फंसे पूर्वांचल समाज के पांच सौ से अधिक श्रमिक परिवारों के साथ साथ अन्य क्षेत्र के श्रमिकों को चिह्नित कर राहत समाग्री उपलब्ध कराई। हमारी टीम ने उत्तराखंड के साथ-साथ उत्तराखंड से लगने वाले उत्तर प्रदेश के कई जिलों में सक्रिय रूप से कार्य कर रही है और जरूरतमंद लोगों को राहत सामग्री पहुंचा रही है।
प्रवल प्रताप चौहान उर्फ मंयक।

हमारे एक साथी ने हमे इस टीम के बारे मे जानकारी दी ,जिसके मैने टीम का नेतृत्व कर रहे प्रवल प्रताप चौहान से सम्पर्क किया ।और इसके बाद उन्होने मुझे एवं अन्य लगभग 50 से अधिक श्रमिक परिवारों को राहत समाग्री उपलब्ध कराई।जिसके लिए हम प्रवल चौहान एवं उनकी टीम के आभारी है।
जितेंद्र गुप्ता,श्रमिक रूद्रपुर सिडकुल।

यह भी पढ़ें 👉  दर्दनाक हादसा- बेकाबू ट्रक खाई में गिरने से चालक की मौत

इस टीम ने हमसे संपर्क कर किच्छा क्षेत्र मे फंसे पूर्वांचल समाज के श्रमिकों की सूची मांगी थी। जिसके बाद हमारी टीम ने किच्छा मे फंसे पूर्वांचल समाज के श्रमिक परिवारों को चिह्नित कर इनकी सूची प्रवल चौहान को उपलब्ध कराई। जिसके बाद इन लोगों ने उन परिवारों को राहत समाग्री उपलब्ध कराई।
-शिव कुमार मित्तल, प्रयास फाउंडेशन