spot_img

Uttrakhand Politics : भाजपा छोड़कर फिर कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं हरक सिंह रावत या उमेश शर्मा काऊ, हाल में पार्टी में हुई गुटबाजी के बाद मिली हवा

हल्द्वनी। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा को बड़ा झटका लग सकता है। प्रदेश में मचे सियासी घमासान के बीच खबर है कि भाजपा का कोई बड़ा नेता कांग्रेस में शामिल हो सकता है। इनमें भाजपा विधायक उमेश शर्मा काऊ और वन मंत्री हरक सिंह रावत का नाम सबसे तेजी से उछल रहा है। उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने हरिद्वार में इसे लेकर बड़ा बयान दिया है। गणेश गोदियाल ने कहा कि भाजपा विधायक उमेश शर्मा काऊ और मंत्री हरक सिंह रावत में से कोई एक नेता कांग्रेस के एक बड़े नेता के संपर्क में है। उस नेता ने इसकी रिपोर्ट पार्टी आलाकमान को भेज दी है और जल्द आलाकमान ही उस पर फैसला लेगा।

गणेश गोदियाल बुधवार को हरिद्वार स्थित जयराम आश्रम में ब्रह्मलीन संत देवेंद्र स्वरूप ब्रह्मचारी महाराज की श्रद्धाजंलि कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे थे। यहां उन्होंने कहा कि उमेश शर्मा काऊ और हरक सिंह रावत दोनों में से किसी एक नेता ने कांग्रेस के एक बड़े नेता से संपर्क किया है। कांग्रेस के वो नेता बहुत जल्दी पार्टी आलाकमान को इसकी सूचना देंगे। उन्होंने कहा कि उमेश शर्मा काऊ उनके परम मित्र हैं, भाजपा में जाने से पहले उन्होंने उन्हें समझाया था लेकिन वो भाजपा के कुचक्र में फंस गए और कांग्रेस छोड़कर भाजपा में चले गए थे।

दरअसल, उनका यह दावा हाल में भाजपा में मचे गुटबाजी के बाद ज्यादा दमदार लग रहा है। क्योंकि कुछ दिन पहले मालदेवता में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान काऊ की भाजपा के ही कार्यकर्ताओं के साथ तू तू-मैं मैं हो गई थी। यह मामला दिल्ली में आलाकमान तक पहुंच गया था। रायपुर विधायक उमेश शर्मा काऊ खुद दिल्ली पहुंचे और राष्ट्रीय भाजपा के पदाधिकारियों से मुलाकात कर अपने दर्द को बयां किया। दिल्ली से लौटने के बाद काऊ ने साफ कहा कि पिछले 4 सालों से उनके साथ नाइंसाफी हो रही है। इसको लेकर वो कई मर्तबा प्रदेश संगठन के साथ मुख्यमंत्री से भी बातचीत कर चुके हैं लेकिन उनकी समस्याओं का समाधान नहीं हो पाया है।

उधर, काऊ के साथ हुए झगड़े को लेकर कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत भी नाराज हैं। उन्होंने इसे कांग्रेस से बीजेपी में आए नेताओं के साथ बदसलूकी करार दिया है। एक न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान उनका यह दर्द बाहर भी आ गया था। हरक सिंह रावत ने कहा था कि कांग्रेस के बागी नेताओं को भाजपा छोड़ने के लिए प्रेशर बनाया जा रहा है। 2016 में कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए सभी नेताओं का सम्मान नहीं हो रहा है।

खबरों से रहें हर पल अपडेट :

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे यूट्यब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !!